attempt to murder

2 supari killer caught in attempt to murder a young man

पिथौरागढ़ सहयोगी, 03 दिसंबर 2020
सुपारी देकर हत्या करने के प्रयास (attempt to murder) के एक मामले का पिथौरागढ़ पुलिस ने खुलासा किया है। पुलिस ने मामले में 2 लोगों को गाजियाबाद और दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है, जबकि 2 अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं।

मामला लड़की के अपने पसंद के लड़के से ही शादी करने की बात पर अडिग रहने से जुड़ा है, जिससे नाराज पिता ने अपने साले को सुपारी देकर लड़के को रास्ते से हटाने की योजना बनाई। युवक की हत्या की यह कोशिश करीब 11 दिन पूर्व जिला मुख्यालय में हुई थी।

sp preeti

गुरुवार को पुलिस अधीक्षक प्रीति प्रियदर्शिनी ने कोतवाली पिथौरागढ़ में आयोजित प्रेसवार्ता में मामले का खुलासा करते हुए बताया कि थाना-कोतवाली पिथौरागढ़ क्षेत्र के ग्राम दौला निवासी जयंत नगरकोटी पुत्र अनिल नगरकोटी ने बीती 21 नवंबर को मामले की तहरीर दी थी। जिसमें जयंत ने बताया कि नगर के बाखली होटल से दौला जाने वाले मार्ग पर अज्ञात व्यक्ति ने तमंचे से फायर कर उसे जान से मारने का प्रयास किया।

अल्मोड़ा में कोरोना (Corona in Almora)- आज 74 नए कोरोना पाँजीटिव, कुल संख्या 2500 पार

इस संबंध में कोतवाली पिथौरागढ़ में आईपीसी की धारा 302 तथा 25 आम्र्स एक्ट के तहत अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू की गई। जयंत से भी तमाम पहलुओं से जानकारी लेकर आरोपी तक पहुंचने की कोशिश की गई, लेकिन कुछ खास सफलता नहीं मिली। जिस पर एसपी ने डीएसपी राजन सिंह रौतेला के निर्देशन में इंस्पेक्टर कोतवाली रमेश तनवार को मामले के खुलासे के लिए टीमें गठित करने के निर्देश दिए।

इस बीच जयंत नगरकोटी ने यह भी बताया कि घटना से कुछ दिन पहले राघव सिंह नाम का आदमी उसके गांव दौला में कमरा ढूंढने आया था और इस दौरान राघव सिंह ने उसके साथ मेलजोल बढ़ाने की कोशिश कर घूमने-फिरने के लिए भी कहा था।
एसपी ने बताया कि पुलिस ने जांच में इस आधार पर एसओजी सहित 4—5 पुलिस टीमें गाजियाबाद, नोएडा, दिल्ली और फैजाबाद रवाना की गईं और 2 दिसंबर को आरोपी सज्जन कुमार उर्फ राघव सिंह निवासी गाजियाबाद तथा नितिन कुमार पोसवाल निवासी दिल्ली को क्रमश गाजियाबाद व दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है।

लड़की नहीं मानी, पिता ने हत्या करने की ठानी

पूछताछ व तहकीकात में पुलिस को पता चला कि वादी जयंत नगरकोटी की शिक्षा-दीक्षा नोएडा में हुई थी। जहां उसकी दोस्ती सुनील बेदी की बेटी निवासी नरसिंहपुर, गुड़गावं हरियाणा हुई। दोनों के बीच प्रेम गहराया तो मामला शादी तक पहुंचा। इस बीच सुनील बेदी अपनी बेटी के विवाह को लेकर जयंत का घर-परिवार देखने पिथौरागढ़ भी आया, लेकिन उसे जयंत का घर व रिश्ता पसंद नहीं आया। उसने अपनी बेटी को जयंत से शादी न करने को मनाने की भी कोशिश की, मगर लड़की नहीं मानी।

एसपी प्रियदर्शिनी के अनुसार इस पर सुनील बेदी ने अपने साले नितिन कुमार पोसवाल के साथ जयंत को रास्ते से हटाने का निर्णय लिया। नितिन कुमार ने जीजा सुनील बेदी से 5 लाख रुपये में जयंत की हत्या का सौदा किया।

नितिन ने हत्या के लिए टैक्सी ड्राइवर सज्जन कुमार तथा अंकित पांडे पुत्र हरीशु कुमार पांडे निवासी कलाफरपुर मुआरागंज, थाना रोनाई, जिला फैजाबाद और हाल निवासी खोड़ा काॅलोनी से ढाई लाख रुपये में सौदा तय कर एक लाख रुपये एडवांस दे दिए।

जयन्त की हत्या को आरोपी तीन बार आए पिथौरागढ़


लड़की के पिता सुनील बेदी से जयन्त नगरकोटी की फोटो हासिल कर सुपारी किलर सबसे पहले बीती 28 अक्टूबर को स्विफ्ट डिजायर कार डीएल 1 आरटीसी 3159 से पिथौरागढ़ आए और होटल स्वागत में फर्जी आईडी व नाम-पते से रुके।


सज्जन कुमार उर्फ साजन कुमार उर्फ सोनू पुत्र अशोक कुमार निवासी ग्राम जेरूवा पोस्ट भावापुर, तहसील वीकापुर जिला फैजाबाद फर्जी राघव सिंह बनकर ग्राम दौला, पिथौरागढ़ में कमरा ढूंढने के बहाने गया और जयन्त से मिलकर उसको पिथौरागढ़ घूमने और पार्टी का लालच दिया, लेकिन जयन्त इसके लिए तैयार नहीं हुआ।

असफल रहने पर सुपारी किलर 3 नवंबर को वापस चले गए। इसके बाद 5 नवंबर को नितिन कुमार, सज्जन कुमार, और अंकित पांडे उसी कार से जयन्त की हत्या के उद्देश्य से पिथौरागढ़ आए और 16 नवंबर तक जयन्त को ठिकाने लगाने का मौका ढूंढते रहे पर मौका नहीं मिला। इस दौरान आरोपी जयन्त के बाजार आने-जाने के समय, रास्तांे व दोस्तों पर नजर रखते रहे रहे, ताकि हत्या को अंजाम दिया जा सके। इसके बाद 19 नवंबर को सज्जन कुमार व अंकित पांडे उसी स्विफ्ट डिजायर से पिथौरागढ़ आए।

Uttarakhand— यहां अनियंत्रित ट्रक दुकान में जा घुसा, मचा हड़कंप

होटल में फर्जी आई व नाम पते से रुके, दो बार नहीं मिल पाया मौका, मास्टरमाइंड समेत दो अन्य आरोपी पकड़ से बाहर


दोनों ने योजना बनाई और 21 नवंबर को बाखली होटल के पास से दौला जाने वाली रोड पर लिफ्ट मांगने के बहाने अंकित पांडे ने जयंत की गाड़ी रुकवाई और खिड़की से जयन्त को मारने के लिए तमंचे से फायर झोंक दिया, परंतु फायर मिस हो गया।

इस बीच जयन्त ने तमंचा दोबारा लोड करने का मौका न देते हुए हमलावर से तमंचा छीन लिया, लेकिन आरोपी मौके से भागने में सफल रहा। एसपी प्रियदर्शिनी ने बताया कि अंकित को हमला करना था और उसके बाद सज्जन कुमार के साथ जो कि गाड़ी लेकर तैयार बैठा था भाग जाना था।

लेकिन आरोपी इरादे में कामयाब नहीं हो पाए। उन्होंने बताया कि मामले के मास्टर माइंड सुनील बेदी और अंकित पांडे की गिरफ्तारी के लिए तेजी से प्रयास किये जा रहे हैं। पकड़ा गया आरोपी नितिन कुमार पोसवाल पुत्र बल्ले राम मूल रूप से नालापुर, हापुड़ मरेड रोड, थाना खरखौदा, जिला मेरठ और हाल निवासी गड़ौली गांव, थाना गाजीपुर, दिल्ली का रहने वाला है। आरोपियों को पकड़ने वाली टीम में एसआई विजय, एसआई प्रियांशु जोशी एसआई सुरेश काम्बोज और कांस्टेबल जरनैल सिंह, राजकुमार सिंह, बलवंत सिंह व गोविंद सिंह शामिल हैं।

कृपया हमारे youtube चैनल को सब्सक्राइब करें