shishu-mandir

Uttarakhand news: प्रदेश के राशन कार्ड धारकों को 50 फीसदी सब्सिडी पर मिलेगी चीनी और नमक

editor1
3 Min Read
Screenshot-5

new-modern
gyan-vigyan

Uttarakhand news: Ration card holders of the state will get sugar and salt at 50 percent subsidy

देहरादून, 11 अप्रैल 2023- Uttarakhand news- प्रदेश के अंत्योदय व पीएचएच कार्ड धारकों को प्रति कार्ड चीनी और नमक उपलब्ध कराने की योजना बन रही है।

saraswati-bal-vidya-niketan

कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या ने की खाद्य विभाग की समीक्षा कार्ड धारकों को कार्ड पर मिलेगी चीनी व नमक

see video here

हर कार्ड पर 2 किलो चीनी व 1 किलो नमक 50 फीसदी सब्सिडी पर उपलब्ध कराया जाएगी। इस प्रस्ताव को आगामी कैबिनेट की बैठक में लाया जाएगा।

खाद्य मंत्री रेखा आर्या ने मंगलवार को विधानसभा स्थित सभागार कक्ष में खाद्य विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। मंत्री ने कहा कि बजट में विभाग द्वारा किये गये प्रावधानों जैसे नमक, चीनी को सब्सिडाईज्ड रेट में उपलब्ध कराने के संबंध में विभागीय अधिकारियों द्वारा की गई तैयारियों तथा प्रस्तावों की प्रगति पर जानकारी प्राप्त की तथा आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।


उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि आगामी कैबिनेट बैठक में नमक तथा चीनी को सब्सिडाईज्ड रेट में उपलब्ध कराने के संबंध में प्रस्तावों को लाया जाए(Uttarakhand news)।


मंत्री ने कहा कि अन्त्योदय परिवार तथा पी.एच.एच. कार्ड धारक को प्रति कार्ड 2 किलो चीनी तथा 1 किलो नमक 50 प्रतिशत सब्सिडी के साथ प्राप्त हो सके, इसको हम सुनिश्चित कर रहे हैं साथ ही प्रति राशन कार्ड और प्रति राशन डीलर को प्रति किलो 1 रूपये लाभांश के भी दिये जाने के निर्देश भी अधिकारियों को दिये हैं।

Uttarakhand news
Uttarakhand news: प्रदेश के राशन कार्ड धारकों को 50 फीसदी सब्सिडी पर मिलेगी चीनी और नमक


मंत्री ने कहा कि आने वाले समय में गरीब परिवारों को नमक तथा चीनी में 50 प्रतिशत सब्सिडी मिलने से काफी राहत मिलेगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार जिस प्रकार से 3 गैस सिलेण्डर मुफ्त रिफिल की सुविधा प्रदान कर रही है, इस संबंध में भी प्रगति जारी है।

उन्होंने कहा कि व्यापक प्रचार प्रसार के माध्यम से योजना के अंतर्गत आने वाले लोगों द्वारा गैस रिफिल कराने की संख्या में भी वृद्धि हो रही है। वर्तमान में 1 लाख 76 हजार परिवार में से लगभग 1 लाख 36 हजार परिवार गैस रिफिल कर रहे है। शेष जो परिवार गैस रिफिल नहीं करवा पा रहे हैं, इस संबंध में जनपदवार अधिकारियों से विस्तृत रिपोर्ट देने के निर्देश दिये हैं।