News-web

20 lakh मे मिलता है यह कीड़ा, साइज और रंग देखने के बाद आप भी हो जाएंगे हैरान, हर जगह है इसकी भारी डिमांड

Published on:

Rare Blue Lobster: एक मछुआरे ने यूके के दक्षिणी कॉर्निश तट पर एक अनोखी जीव को पकड़ा क्रिस पकई नाम के मछुआरे ने 5 मई को पोलपेरो गांव के पास अपने जाल में इसे देखा था। इस असाधारण झींगे ने दुनिया भर के लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा है।

Blue Lobster: क्या कभी आपने कभी नीले रंग का झींगा देखा है?ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के जूलॉजी विभाग के विशेषज्ञ का कहना है की नीली झींगा पकड़ने की संभावना लगभग दो मिलियन लोगों में एक में होती है लेकिन हाल ही में एक मछुआरे ने यूके के दक्षिणी कॉर्निश तट पर इस अनोखे जीव को पकड़ लिया। क्रिस पकई नाम के मछुआरे ने 5 मई को पोलपेरो गांव के पास अपने जाल में इसे देखा था। इस असाधारण झींगे ने दुनिया भर के लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा है, क्योंकि लोग इसके असामान्य रंग का कारण जानने के लिए उत्सुक हैं।

बीस लाख में सिर्फ एक मिलता है यह कीड़ा

क्रिस पकई ने जब से इस नीले रंग के झींगे को पकड़ा है तब से वह खूब चर्चा का विषय बने हुए हैं और यह झींगा भी लाइमलाइट में आ गया है।बताया जा रहा है कि इस झींगे के चमकीले नीले रंग के कारण उसके शरीर से एक खास प्रोटीन पैदा होता है जो कि उसकी जेनेटिक खासियत की वजह से होता है।
कनाडा के नोवा स्कोटिया में स्थित प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय के जूलॉजी विभाग के क्यूरेटर एंड्रयू हेब्दा ने पहले कनाडाई ब्रॉडकास्टिंग कोरपोरेशन को बताया था कि ये झींगा किसी पेंटिंग की तरह दिखती है। उन्होंने आगे कहा कि ये आम झींगों जैसी नहीं दिखती, जो अक्सर समुद्र में पाई जाती हैं।

झींगे के असली रंग जीन संबंधी बदलाव

दरअसल, इस झींगे के असली रंग जीन संबंधी बदलाव (Genetic Mutation) की वजह से दब गए हैं। झींगा पकड़ने के बाद क्रिस पकई इसे जैकलिन स्पेंसर के पास ले गए। जैकलिन पोलपेरो में एक मछली बेचने वाली दुकान “किटीज लॉबस्टर, क्रैब एंड सीफूड शैक” की मालकिन हैं, जो वहां पकड़े गए समुद्री भोजन को बेचती हैं।
जैकलिन का कहना है कि पहले उन्होंने झींगे को वापस समुद्र में छोड़ने का फैसला किया लेकिन उन्होंने डर  है कि कोई दूसरा शिकारी उसे खा ना जाए इसलिए क्रिस और जैकलीन ने झींगे की सुरक्षा के लिए पास के एक एक्वेरियम में उसे दान देने का फैसला किया। जैकलीन ने ये भी बताया कि इस अनोखी झींगे के लिए मछुआरे को अच्छी कीमत मिली है।