तरूण बेलवाल

तरूण बेलवाल बने उत्तरी यूरोपियन देश एस्टोनिया में प्रोफेसर

अल्मोड़ा। मेधावी छात्र और युवा वैज्ञानिक तरूण बेलवाल का चयन यूरोपीय देश एस्टोनिया के विश्वविद्यालय में बतौर एसिस्टेंस प्रोफेसर हुआ है। वहां वह बतौर ऐरा एसिस्टेंट प्रोफेसर पद पर लाईफ साइंस पढ़ाने हेतु चयनित हुए है। वह वहां खाद्य पदार्थों के अपशिष्ट मूल्य स्थिरीकरण रसायन पर अध्यापन कार्य करेंगे।

कुमाऊॅ विश्वविद्यालय में वनस्पति विज्ञान में शोधार्थी रहे तरूण बेलवाल मूल रूप से द्वाराहाट ग्राम कुंजर के निवासी हैं और वर्तमान में पाण्डेखोला निवास करते हैं। उनके पिता नवीन चंद्र बेलवाल विवेकानंद पर्वतीय कृषि अनुसंधन संस्थान अल्मोड़ा से बतौर वरिष्ठ तकनीकी अधिकारी सेवानिवृत्त हो चुके हैं। माता निर्मला बेलवाल गृहणी है। उनकी पत्नी डाॅ सुदीप्ता रमोला भी उनके शोध कार्यों में सहयोग करती रही है। उनकी पत्नी वर्तमान में जिजियांग यूनिवर्सिटी में कार्यरत है।

तरूण बेलवाल को लगातार दो वर्ष 2016 और 2017 में उनके उत्कृष्ट कार्य के लिये उत्तराखण्ड सरकार द्वारा राज्यपाल पुरूस्कार से भी पुरस्कृत किया गया था। उन्होंने गोविंद बल्लभ पंत राष्ट्रीय हिमालयी पर्यावरण संस्थान कोसी कटारमल से अपना बोयोटैक्नाॅलाॅजी में शेाधकार्य पूर्ण किया था। तमिलनाडु के वैल्लोर इंस्टीटयूट आफ टैक्नोनोजी से एमटैक की पढ़ाई की डिग्री लेने के बाद वह जीबी पंत पर्यावरण संस्थाना कोसी कटारमल में रिसर्च फैलो भी रहे।


तरूण बेलवाल
वर्तमान में चीन से पोस्ट डाॅक्टरल साइंस फाउण्डेशन से रिसर्च ग्रांट ले चुके हैं। वहां उन्होने जेहजियांग विश्वविद्यालय चीन से उन्होंने पोस्ट डाॅक्टरेयल शोध पूरा कर लिया है। युवा वैज्ञानिक तरूण के 70 से अधिक शोध पत्र भी प्रकाशित हो चुके हैं।


उनकी इस उपलब्धि पर उनके परिवार के साथ गोविंद बल्लभ पंत पर्यावरण के निदेशक डाॅ आर एस रावल, उनके गाईड रहे डाॅ आईडी भटट, डाॅ बीना पाण्डे, डाॅ ललित गिरी, डाॅ पुष्कर बिष्ट आदि ने शुभकामनाएं दी है।

यह भी पढ़े

करंट अफेयर्स (CURRENT AFFAIRS) :- 2 नवंबर 2020

किसान सम्मान निधि(Kisan Samman Nidhi) के लाभार्थियों के लिए केसीसी अनिवार्य

कृपया हमारे youtube चैनल को सब्सक्राइब करें