उत्तरा न्यूज
अभी अभी

बड़े काम का है शकरकंद, दिन भर रखता है एनर्जेटिक

Sweet potato is very useful, keeps energetic throughout the day

खबरें अब पाए whatsapp पर
Join Now

ठंड का मौसम शुरू होते ही बाजार में तरह-तरह की खाने की वैराइटी देखने को मिल जाती है और इन्हीं वैरायटी में से एक है शकरकंद।


गुलाबी ठंड में सड़क पर हल्की आंच पर भुने शकरकंद खाने को मिल जाएं तो पूरा दिन सुधर जाएगा ना! ज्यादातर लोग इसे मसाले और नींबू के रस से भरपूर पसंद करते हैं।


लंबे समय तक मजदूरों द्वारा भोजन के रूप में खाए जाने वाले गन्ने को अब शहरों में ‘सुपर फूड’ का टैग दे दिया गया है। यहां तक ​​कि माताएं भी अब बच्चों के लंच बॉक्स में शकरकंद से बने स्वादिष्ट व्यंजन बनाकर और पैक कर रही हैं। हालांकि अगर आप नहीं जानते हैं तो हम आपको बता दें कि साधारण से दिखने वाले इस शकरकंद में आपको भरपूर मात्रा में आयरन, फोलेट, कॉपर, कार्बोहाइड्रेट, मैग्नीशियम और कई तरह के विटामिन मिलते हैं, जिनकी आपको खास तौर पर इस ठंड के मौसम में जरूरत होती है।


तासीर में गर्म यह शकरकंद आपको ठंड के मौसम में गर्माहट तो देता ही है साथ ही बीमारियों से लड़ने की ताकत भी देता है। पोषक तत्वों से भरपूर होने के अलावा शकरकंद स्वाद में भी लाजवाब होता है। एक बार खाने के बाद इसका स्वाद दांतों में चिपक जाता है।
आयुर्वेदाचार्य कहते हैं, ‘शकरकंद लंबे समय से भारतीय व्यंजनों का हिस्सा रहा है ।

कुछ दशक पहले लोग शकरकंद का सेवन रात के खाने में भी किया करते थे, लेकिन हरित क्रांति के बाद लोग चावल-गेहूं जैसे अनाज की तरफ ज्यादा रूख करने लगे। कंद और बड़े अनाज को गरीबों का भोजन माना जाने लगा। हालांकि, अब नए शोध के बाद इस मानसिकता को नई पीढ़ी से दूर किया जा रहा है और वे इस भोजन के महत्व को महसूस कर रहे हैं और इसे फिर से नियमित आहार का हिस्सा बना रहे हैं। गाँव का शकरकंद शहर का ‘शकरकंद’ बन गया है, लेकिन अब शकरकंद खाने के रूप में नहीं बल्कि स्ट्रीट फूड के रूप में देखा जाता है।’


आलू विदेशी हैं लेकिन ‘शकरकंद’ स्वदेशी कंद


आलू 16 वीं शताब्दी में पुर्तगालियों द्वारा भारत लाया गया था। लेकिन शकरकंद, या गाँव के शकरकंद, भारत में हजारों वर्षों से खाए जाते रहे हैं। कुछ शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि इसकी उत्पत्ति अमेरिकी महाद्वीप में हुई थी, लेकिन कुछ समय पहले मेघालय में लाखों साल पुराने गन्ने के अवशेष मिले थे, जिसके आधार पर कहा जाता है कि भारतीयों ने सबसे पहले इसकी खेती शुरू की थी। हमारे देश में सभी प्रकार के व्रत या त्योहारों में शकरकंद का प्रयोग किया जाता है। कुछ जगहों पर देवी-देवताओं की भी पूजा की जाती है। शकरकंद की तुलना में आलू की स्वीकार्यता बहुत कम है।


आलू की तुलना में स्वास्थ्यवर्धक होता है शकरकंद
आलू की तुलना में शकरकंद में विटामिन और खनिज अधिक मात्रा में होते हैं। यह विटामिन-ए और विटामिन-सी से भरपूर होता है। ये विटामिन आंखों के लिए काफी फायदेमंद साबित होते हैं। इसके अलावा शकरकंद में मौजूद फाइबर आपके मेटाबॉलिज्म को दुरुस्त रख वजन कम करने में मददगार साबित होता है।
देश में ज्यादातर लोग शकरकंद को भूनकर या उबालकर खाते हैं, लेकिन पश्चिमी देशों में इन्हें सलाद के रूप में भी खाया जाता है।
सुबह खाइए और दिनभर रहिए ऊर्जावान
शकरकंद एक ऐसा कंद है जिसे पचने में थोड़ा समय लगता है। अगर आप नाश्ते में शकरकंद खाते हैं तो आप दिन भर क्रेविंग से बचे रहेंगे और आपकी डाइट भी नहीं टूटेगी। शकरकंद खाने से आपको काफी एनर्जी मिलेगी, इसे खाने के बाद आपको पूरे दिन कुछ और खाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इस बात का भी खास ख्याल रखना जरूरी है कि सोने से पहले गन्ना न खाएं, अगर आप इसे खाने के तुरंत बाद सो जाते हैं तो वजन बढ़ सकता है।
शकरकंद कैसे और कितना खाना चाहिए?
डॉक्टरों के मुताबिक सामान्य पाचन तंत्र वाले लोग ठंड के दिनों में 100 ग्राम शकरकंद खा सकते हैं। इसे उबालकर या भूनकर खाना चाहिए। कुछ जगहों पर लोग इसे कच्चा भी खाते हैं. हालांकि, चूंकि यह मिट्टी में उगता है, इसलिए इसके साथ कुछ सूक्ष्मजीव भी जुड़े होते हैं, इसलिए इसे कच्चा खाना खतरनाक साबित हो सकता है।


पथरी के रोगी करे शकरकंद से परहेज
क्योंकि शकरकंद में कैल्शियम ऑक्सालेट की मात्रा अधिक होती है जिसके कारण पथरी के रोगियों को शकरकंद खाने से बचना चाहिए।

Related posts

जलवायु प्रौद्योगिकी में नयापन लाने के लिए इजराइल करेगा 88 अरब डॉलर का निवेश

Newsdesk Uttranews

पिथौरागढ़ की स्वच्छता के लिए आगे आए मॉर्निग वॉक ग्रुप के सदस्य

Newsdesk Uttranews

राष्ट्रीय जन सेवा समिति कोरोना काल (Corona) में लोगों की लगातार कर रही है मदद

Newsdesk Uttranews