contract engineers


भिकियासैण सहयोगी |
जिले के दूरस्थ क्षेत्र स्याल्दे ब्लाँक स्याल्दे के जौरासी क्षेत्र को आजादी के सात दशक बीत जाने के बाद सड़क नसीब होगी, लंबे प्रयासों के बाद सरकार ने ग्रामीणों की मांग को स्वीकृति प्रदान कर दी है |
क्षेत्र को ब्लाँक मुख्यालय से मोटरमार्ग से जोडने की लम्बे समय से चली आ रही मांग स्वीकृत होने से क्षेत्र के लोगो मे खुशी की लहर है| उन्होंने विधायक सुरेंद्र सिंह जीना का आभार जताया है |
क्षेत्रवासी देश आजाद होने के बाद से ही इस दूरस्थ क्षेत्र जौरासी को देघाट मोटर मार्ग से जोडने की मांग करते चले आ रहे थे।
जिसको लेकर अनेकों बार धरना प्रदर्शन भी हुआ|लेकिन सड़क नही बन सकी हाल ही मे लोक निर्माण विभाग द्वारा देघाट जौरासी मोटरमार्ग व गोलना पुल निर्माण का टैण्डर जारी कर देने से इस क्षेत्र के दर्जनो गांव
जौरासी, केलानी,ग्वालबीना, सौगडा, घन्याल, कफलटाना,गांगूखिला,चौना, सनडभीडा,गोलना के लोगो मे यातायात सुविधा के लिये आस जगी है| उल्लेखनीय है कि क्षेत्र के लोगो को देघाट स्याल्दे आने हेतु 5 से 7 किमी की दूरी पैदल तय करनी पडती है या फिर सड़क मार्ग से ब्लाक मुख्यालय स्याल्दे पहुचने हेतु 60 से 80 किमी चौखुटिया होते आना पडता था।
देघाट जौरासी मोटरमार्ग बनने से दर्जनो गांवो के चार हजार से अधिक की आवादी को सीधा सड़क का लाभ मिलेगा
क्षेत्र के लोगों व भाजपा कार्यकर्ताओं ने सडक व मोटर पुल स्वीकृत होने पर स्थानीय विधायक सुरेन्द्र जीना के प्रयासों की सरहाना कर आभार जताया है।आभार जताने वालो मे ग्राम प्रधान कफलटाना दुर्गा दत्त भट्ट,
ग्राम प्रधान घन्याल प्रताप सिह घुग्त्याल , ग्राम प्रधान ग्वालबीना दलीप सिह,
ग्राम प्रधान सनड़भीडा,मदन सिह, क्षेत्रपंचायत सदस्य सुरेन्द्र घुग्त्याल, के अलावा हंशादत्त,राजेसिह, बिरेन्द्र सिह रावत,भैरव दत्त ढौढियाल, जगदीश उप्रैती, उदियानन्द ,जगत सिह अधिकारी,आदि ने सरकार का आभार जताया है।