Announcement of road construction of Supakot of Someshwar did not come on the ground

अल्मोड़ा, 19 जुलाई 2020- तहसील मुख्यालय सोमेश्वर के नजदीकी गांव सूपाकोट सड़क निर्माण (road construction)की घोषणा धरातल पर नहीं उतर पाई है.

लोग अब निराश से होने लगे है और सरकार की नीतियों और आश्वासनों पर सवाल उठा रहे हैं.


ग्रामीणों का कहना है कि सोमेश्वर के सुपाकोट गाँव जो मुख्य सड़क से केवल डेढ़ किमी दूरी पर है, जहां कई बार वीआईपी नेता आते जाते रहते हैं.
यह गांव बीजेपी के राष्ट्रीय नेता महेन्द्र पांडे का पैतृक गांव भी है.

road construction
सूपाकोट गांव का विहंगम दृष्य


लेकिन मुख्य सड़क से डेढ़ दो किमी दूर इस गांव की जनता की सड़क निर्माण (road construction)की मांग पूरी नहीं हो पा रही है. यह गांव कोसी नदी के पार है.


गांव के लोगों का कहना है कि कई बार सर्वे का दौर भी चला है,पर रोड निर्माण (road construction)कार्य शुरू नहीं हुआ.


गांव के युवा सामाजिक कार्यकर्ता मनीष पांडे ने बताया कि 2 जून 2018 को जर्मनी में कार्यरत क्षेत्र के युवा वैज्ञानिक दीपक पांडे ने ई- मेल के माध्यम से परिवहन सड़क मंत्रालय को पूरे क्ष्रेत्र के लोगो की एनओसी लेकर प्रेषित किया, मंत्रालय द्वारा संज्ञान लेकर उत्तराखंड ट्रांसपोर्ट कमिश्नर को भी कार्यवाही करने हेतु निर्देश जारी किया.


अगस्त 2018 में बीजेपी राष्ट्रीय नेता महेंद्र पांडे के पिता के निधन के बाद सांत्वना कार्यक्रम में भी मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा भी एक वर्ष
में सड़क मार्ग निर्माण की बात का भरोषा दिया .
वर्ष 2019 जुलाई में प्रथम चरण में 21 लाख रुपये जारी होने की बात सभी समाचार पत्रों में छपी,पर पुनः सर्वे की बात कहकर सर्वे किया गया, जो जनवरी 2020 में पूर्ण किया गया पुनः एनओसी भी दी गई,पर अब लोनिवि बजट नहीं होने की बात कर रहा है.

सुपाकोट सिमखोला क्षेत्र वासी अब सरकार की लेट लतीफी के रवैये से नाराज हैं उनका कहना है कि कई बार पत्र व्यवहार के साथ ही , राज्यमंत्री व स्थानीय विधायक रेखा आर्या को ज्ञापन भी दे चुके हैं.

अपडेट के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

https://www.youtube.com/channel/UCq1fYiAdV-MIt14t_l1gBIw