The priests protested over the formation of the Chitai Golu Temple Trust, saying they did not take them into confidence

अल्मोड़ा, 06 जुलाई 2020- प्रसिद्ध चितई गोलू मंदिर में ट्रस्ट का गठन होने के बाद पुजारियों (priests)ने इसका विरोध शुरू कर दिया है.

priests

आज यानी सोमवार को पुजारियों (priests)के प्रतिनिधिमंडल ने जिलाअधिकारी को ज्ञापन देकर चितई गोलू मंदिर में ट्रस्ट गठन करन पर विरोध जताया.

कहा कि मंदिर में ट्रस्ट का गठन कर लिया गया है. लेकिन ट्रस्ट गठन में यहां के पुजारियों (priests)की राय नहीं ली गई है. न ही इस प्रक्रिया में पुजारीगणों को अपना पक्ष रखने का ही कोई अवसर दिया गया.

पुजारियों (priests)का कहना था कि एक तरफा ट्रस्ट का गठन कर दिया गया है. जबकि इस संबंध में उच्चतम न्यायालय में मार्च 2020 में ही आवेदन कर दिया गया था. जिसकी सुनवाई उच्च न्यायालय के दूसरे बैंच में चल रही है.

ज्ञापन देने वालों में मंदिर के प्रधान पुजारी संतोष पंत, संध्या पंत, हरिविनोद पंत, प्रकाश पंत, किरन कुमार पंत, नितिन पंत मौजूद थे.

इधर, जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने पुजारियों (priests)को आश्वासन दिया कि ट्रस्ट के गठन के लिए जल्द ही मंदिर परिसर में आगामी आठ जुलाई को एक जनसुनवाई का आयोजन किया जा रहा है.

जिसमे चितई मंदिर व पुजारियों व आम जनता से सुझावों पर विचार किया जायेगा.

उन्होंने कहा कि पूरी प्रक्रिया न्यायालय के आदेशानुसार की गई है.


उपजिलाधिकारी सदर सीमा विश्वकर्मा ने बताया 8 जुलाई को चितई गोलू देवता मंदिर परिसर में दोपहर 12 बजे से एक जनसुनवाई का आयोजन किया जाना है.

उन्होंने बताया कि इस जनसभा में मंदिर के पुजारियों एवं अन्य व्यक्तियों द्वारा प्रतिभाग कर गोलू देवता मंदिर प्रबन्धन समिति (ट्रस्ट) के सम्बन्ध में विचार रखे जायेंगे. इस सम्बन्ध में उन्होंने तहसीलदार को व्यापक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिये है.

ताजा अपडेट के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

https://www.youtube.com/channel/UCq1fYiAdV-MIt14t_l1gBIw