उत्तरा न्यूज
अभी अभी अल्मोड़ा उत्तराखंड विविध संस्कृति

रावण, कलयुगी रावणों से कहता …..!

खबरें अब पाए whatsapp पर
Join Now

Poem yuwa kavi lalit yogi

Poem yuwa kavi lalit yogi

अल्मोड़ा, 25 अक्टूबर 2020-
कविता- रावण , कलयुगी रावणों से कहता

‘ इधर उधर सब खून बहा है
कहां से जाऊं रे!
घर-घर रावण भरे पड़े हैं
किसे जलाऊँ रे!

कभी नाचते!
कभी दबोचते
और कभी सताते हैं
मैं सीता सी ठिठुर रही हूं
अश्रु कहां छुपाऊं रे!

रावण है!
रावण को जलाते
दंभी हैं! घुत्ति दिखलाते
पापी हैं!रावण को जिलाते!
और जोर-जोर से हैं गलियाते

रावण भी अब रावणों से कहता-
कैसे जल जाऊं रे!
घर-घर रावण भरे पड़े हैं
किसे जलाऊं रे!

डॉ. ललित योगी
(कवि शिक्षण से जुड़े हैं)

Related posts

एमएड की प्रथम काउंसलिंग की प्रतीक्षा सूची की कट आफ जारी

Newsdesk Uttranews

तत्काल टिकट बुकिंग के लिए Railway ने किया नया app लॉन्च, अब तुरंत मिलेगी कंफर्म सीट, जानिए कैसे

उत्तरा न्यूज टीम

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री ने पद्मा ब्रिज का उद्घाटन किया

Newsdesk Uttranews