करोड़ों रुपयों की धोखाधड़ी के मामले में फरार दो अभियुक्तों की संपत्ति हुई कुर्क

editor1
2 Min Read
fire broke out

पिथौरागढ़। करोड़ों रुपयों की धोखाधड़ी के मामले में फरार चल रहे अभियुक्त की सम्पत्ति डीडीहाट पुलिस ने कुर्क कर दी। वहीं काफी लम्बे समय से फरार चल रहे एनआई एक्ट के वारंटी की सम्पत्ति की भी थाना झूलाघाट पुलिस ने कुर्की की है। शेयर मार्केट इन्वेस्टमेंट, गैस एजेंसी व इंश्योरेंस इन्वेस्टमेंट के नाम पर निवेशकों से करोड़ों रुपये हड़पने के मामले में 18 लोगों के खिलाफ कोतवाली पिथौरागढ़ में गैंगस्टर एक्ट में मुकदमा दर्ज किया था। इसकी विवेचना प्रभारी निरीक्षक कोतवाली डीडीहाट हिमांशु पंत कर रहे हैं।

मुकदमे में मुख्य अभियुक्त जगदीश पुनेठा सहित 18 आरोपी नामजद थे, जिनमें से 15 की गिरफ्तारी और रिमांड की कार्यवाही पूर्व में की जा चुकी है, जबकि जगदीश पुनेठा, जगदीश बोरा व कमलेश बोरा की गिरफ्तारी शेष है। हालांकि जगदीश पुनेठा व जगदीश बोरा की सम्पत्ति की पूर्व में कुर्की की कार्यवाही की जा चुकी है। इसी क्रम में बीते 27 जुलाई को पुलिस अधीक्षक महोदय के निर्देशन में प्रभारी निरीक्षक हिमांशु पंत की टीम फरार चल रहे कमलेश बोरा पुत्र स्व जीवन सिंह बोरा, निवासी ग्राम व पोस्ट गराली तहसील बंगापानी, जिला पिथौरागढ़ के हाल निवास किराये के मकान लिंक रोड पिथौरागढ़ पर गई।

टीम ने न्यायालय के आदेश के अनुपालन में उसकी चल- अचल सम्पत्ति की कुर्की कर दी। वहीं प्रभारी निरीक्षक झूलाघाट प्रकाश चन्द्र जोशी की टीम ने गैर जमानती वारंट और कुर्की वारंट का अनुपालन किया और काफी लम्बे समय से फरार अभियुक्त देवेन्द्र कुमार पुत्र झुसिया राम, निवासी ग्राम व पोस्ट बगड़तोली जिला पिथौरागढ़ के निवास स्थान पर जाकर उसकी सम्पत्ति की कुर्की की कार्यवाही की।