News-web

पीएम मोदी की जीत की खुशी पर फ्री में मिल रहा तीन महीने का रिचार्ज ! क्या है सच्चाई

लोकसभा चुनाव के नतीजे घोषित हो चुके है और सरकार गठन की कवायद चल रही है। इस बीच अब WhatsApp पर एक ऐसा मैसेज मिला है, जिसमें PM मोदी का नाम का इस्तेमाल करके फ्री रिचार्ज देने का वादा किया जा रहा है। इसके साथ एक लिंक भी शेयर किया है। साइबर ठग आजकल सीधे साधे लोगों ठगने का काम कर रहें हैं। कहीं वह फेक रिचार्ज का सहारा लेते हैं, तो कई बार फेक पार्सल में ड्रग्स का हवाला देकर डराते और धमकाते हैं।

इतना ही नहीं कई बार वह रिटर्न का लालच देते हैं, जिसमें शुरुआत में कुछ हजार रुपये का रिटर्न देते भी हैं। अब एक बार फिर फ्री मोबाइल रिचार्ज का मैसेज का झांसा दिया जा रहा है। WhatsApp पर मिलने वाले इस मैसेज की जांच हुई तो सबसे पहले प्रेस इंफोर्मेशन ब्यूरो (PIB) के X अकाउंट (@PIBFactCheck) पर इस साल का पोस्ट मिला, जिसमें उन्होंने स्कैम से सावधान रहने को कहा और उसमें भी एक फेक रिचार्ज की बात कही गई।

अलग ही फ़्रॉड चल रहा है🤔तो भैया….ऐसे फ्री रिचार्ज वाले मैसेज के झांसे में न आयें… साइबर फ्रॉड की शिकायत 1930 अथवा अपने नज़दीकी थाने पर दें।मित्रता, सेवा, सुरक्षाhttps://www.facebook.com/share/v/pmMoqNsE3jEXAiT8/?mibextid=oFDknk*अधिक से अधिक शेयर करें*👍*NAINITAL POLICE*

WhatsApp पर हमें जो मैसेज मिला है, उसमें लिखा है, नरेंद्र मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने की खुशी में BJP Party ने सभी भारतीय यूजर को 599 का 3 महीने वाला रिचार्ज फ्री में देने का वादा किया है तो अभी निचे नीले रंग की लिंक पर के अपने नंबर पर रिचार्ज करे।इसके बाद जब हमें मिले मैसेज में दिए गए लिंक पर क्लिक किया, तो वहां एक वेबसाइट खुलती है। जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फोटो का यूज किया है।

उसके बाद रिचार्ज ऑफर चेक करने के लिए एक ने को कहता है।जिसके बाद एक प्रोसेस शुरू होता है, जहां एक बॉक्स ओपन होता है। जहां फोन नंबर डालने के लिए कहा जाता है। इसका एक स्क्रीनशॉट सामने आया है। जिसमें नीचे कुछ कमेंट भी किए गए हैं, जिसमें धन्यवाद और I got free recharge जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया है। ऐसे मैसेज लोगों को धोखा देने के लिए भी हो सकते हैं। हालांकि हमने इस प्रोसेस को पूरा फॉलो नहीं किया और आपको भी इस तरह के मामलों से सावधान रहने की सलाह देते हैं।

n61522027417177440836544a86b659e121654a0506d121a0841a2e6dfd16418254b33f51d29388b44d0bfb