शारदीय नवरात्र का प्रारंभ आज ब्रह्ममुहूर्त के साथ हो गया है। नवरात्र के व्रत के साथ ही इन नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ अलग-अलग स्वरुपों की पूजा की जायेगी। प्रथम दिवस कलश स्थापना के साथ ही मां दुर्गा की मूर्ति स्थापना की जाती है। नवरात्र के दौरान दिवस अनुसार मां दुर्गा के नौ देवी स्वरूपों के नाम निम्न हैं-

  1. प्रतिपदा- शैलपुत्री
  2. द्वितीया- ब्रह्मचारिणी
  3. तृतीया- चंद्रघंटा
  4. चतुर्थी – कूष्मांडा
  5. पंचमी- स्कंदमाता
  6. षष्ठी- कात्यायनी
  7. सप्तमी- कालरात्रि
  8. अष्टमी- महागौरी
  9. नवमी- शिद्धीदात्री
Screenshot 2020 10 17 07 31 51 181

मां शैलपुत्री का स्वरूप- नवरात्रि के प्रथम दिवस मां शैलपुत्री की पूजा की पूजा का प्रावधान है। शैलपुत्री का अर्थ है पहाड़ की बेटी। मां शैलपुत्री बैल की सवारी करती हैं और भक्तों के कष्ट हरती है। मां के दाहिने हाथ में त्रिशूल है और बाएं हाथ में कमल का फूल है।

नवरात्र के दिनों में मां अम्बे के इन 108 नामों का उच्चारण भी शुभ माना जाता है-

1. सती 
2. साध्वी
3. भवप्रीता
4. भवानी
5. भवमोचनी
6. आर्या
7. दुर्गा
8. जया
9. आद्य
10. त्रिनेत्र
11. शूलधारिणी
12. पिनाकधारिणी
13. चित्रा
14. चण्डघण्टा
15. महातपा
16. मन 
17. बुद्धि
18. अहंकारा
19. चित्तरूपा
20. चिता
21. चिति
22. सर्वमन्त्रमयी
23. सत्ता
24. सत्यानन्दस्वरूपिणी
25. अनन्ता
26. भाविनी
27. भाव्या
28. भव्या
29. अभव्या 
30. सदागति
31. शाम्भवी
32. देवमाता
33. चिन्ता
34. रत्नप्रिया
35. सर्वविद्या
36. दक्षकन्या
37. दक्षयज्ञविनाशिनी
38. अपर्णा
39. अनेकवर्णा
40. पाटला
41. पाटलावती
42. पट्टाम्बरपरीधाना
43. कलामंजीरारंजिनी
44. अमेय
45. विक्रमा
46. क्रूरा
47. सुन्दरी
48. सुरसुन्दरी
49. वनदुर्गा
50. मातंगी
51. मातंगमुनिपूजिता
52. ब्राह्मी
53. माहेश्वरी
54. इंद्री
55. कौमारी
56. वैष्णवी
57. चामुण्डा
58. वाराही
59. लक्ष्मी
60. पुरुषाकृति
61. विमिलौत्त्कार्शिनी
62. ज्ञाना
63. क्रिया
64. नित्या
65. बुद्धिदा
66. बहुला
67. बहुलप्रेमा
68. सर्ववाहनवाहना
69. निशुम्भशुम्भहननी
70. महिषासुरमर्दिनि
71. मधुकैटभहंत्री
72. चण्डमुण्ड विनाशिनि
73. सर्वासुरविनाशा
74. सर्वदानवघातिनी
75. सर्वशास्त्रमयी
76. सत्या
77. सर्वास्त्रधारिणी
78. अनेकशस्त्रहस्ता
79. अनेकास्त्रधारिणी
80. कुमारी
81. एककन्या
82. कैशोरी
83. युवती
84. यति
85. अप्रौढा
86. प्रौढा
87. वृद्धमाता
88. बलप्रदा
89. महोदरी
90. मुक्तकेशी
91. घोररूपा
92. महाबला
93. अग्निज्वाला
94. रौद्रमुखी
95. कालरात्रि
96. तपस्विनी
97. नारायणी
98. भद्रकाली
99. विष्णुमाया
100. जलोदरी
101. शिवदूती
102. करली
103. अनन्ता
104. परमेश्वरी
105. कात्यायनी
106. सावित्री
107. प्रत्यक्षा
108. ब्रह्मवादिनी