shishu-mandir

ऐतिहासिक फैसला : उत्तराखंड में पहली बार दो महिला पुजारियों की हुई नियुक्ति

उत्तरा न्यूज डेस्क
2 Min Read
Screenshot-5

new-modern
gyan-vigyan

उत्तराखंड में पहली बार योगेश्वर श्रीकृष्ण मंदिर की कमेटी ने एक ऐतिहासिक फैसला लेते हुए 2 महिला पुजारियों की नियुक्ति की है। पिथौरागढ़ जिले के चंडाक स्थित सिकड़ानी गांव के योगेश्वर श्रीकृष्ण मंदिर में पहली बार दो महिला पुजारियों की नियुक्ति की गई है। इस मौके पर मुख्य और सहायक महिला पुजारियों का पुष्प वर्षा के साथ जोरदार स्वागत किया गया। मंदिर कमेटी के अध्यक्ष आचार्य डॉ. पीतांबरअवस्थी ने विधि-विधान से मंजुला अवस्थी को मुख्य पुजारी व सुमन बिष्ट को सहायक पुजारी का दायित्व सौंपा।

saraswati-bal-vidya-niketan

हिन्दू सनातन परंपराओं को महिलाओं ने बनाया जीवंत : डॉ. पीतांबर अवस्थी

डॉ. पीतांबर अवस्थी ने कहा कि पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं अपने परिवार की सुख-समृद्धि के लिए अधिक व्रत-उपवास रखती हैं। फिर भी उन्हें पुजारी की जिम्मेदारी नहीं दी जाती। हमारी सनातन परंपराओं को महिलाएं जीवंत बनाए हुए हैं।

डॉ. अवस्थी ने कहा कि रूढ़िवादी परंपराओं को तोड़ते हुए महिला सशक्तिकरण के प्रयास आगे भी करते रहेंगे। मंदिर में सभी धर्मावलंबियों के प्रवेश की अनुमति है।पहली बार किसी मंदिर के पुजारी के रूप में महिलाओं को नियुक्त करके मंदिर कमेटी ने नारी सशक्तिकरण की मिसाल कायम की है। भजन-कीर्तन के बाद पुजारी मंजुला अवस्थी व सुमन बिष्ट को मंदिर कमेटी की ओर से सम्मानित भी किया गया।