Join WhatsApp

News-web

हासन लोकसभा चुनाव परिणाम 2024:  स्कैंडल में फंसे प्रज्वल रेवन्ना हार गए, कांग्रेस के एम श्रेयस पटेल ने हासिल की जीत

Published on:

Hassan Lok Sabha Election Result 2024: हसन लोकसभा सीट से जेडीएस के घोटाले में फंसने वाले उम्मीदवार प्रज्वल रेवन्ना यह चुनाव हार गए हैं। 2019 में उन्हें इसी सीट से 1,41224 वोटो से जीत मिली थी। हासन सीट से कांग्रेस के एम. श्रेयस पटेल ने जीत दर्ज की है।

कर्नाटक की हसन लोकसभा सीट का परिणाम आ गया है यहां से पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा के पोते और घोटाले में फंसे सांसद प्रज्वल रेवन्ना बीजेपी और जेडीएस के उम्मीदवार थे। वहीं कांग्रेस ने एम श्रेयस पटेल को अपना उम्मीदवार बनाया था। श्रेयस पटेल ने प्रज्वल रेवन्ना को 44000 वोटो से हरा दिया है। मतदान से पहले देश के पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा के पोते प्रज्वल रवीना पर सेक्सुअल हैरेसमेंट के आरोप लगे थे और उनके खिलाफ 28 अप्रैल को मुकदमा भी दर्ज किया गया था। लोकसभा चुनाव 2024 के दूसरे चरण में 26 अप्रैल को हसन सीट पर वोटिंग हुई थी। इसके बाद प्रज्वल रेवन्ना जर्मनी भाग गए थे।

31 मई को वापस आकर किया सरेंडर

पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा और कानून के दबाव के चलते प्रज्वल रेवन्ना का भारत 31 मई को वापस आना पड़ा। एयरपोर्ट पर उतरते ही उन्हें पुलिस ने हिरासत में ले लिया था और  एसआईटी के हवाले कर दिया। फिलहाल प्रज्वल रेवन्ना एसआईटी की हिरासत में हैं। एक समय ऐसा था जब प्रज्वल रेवन्ना के लिए पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने 5 बार खुद जीती हुई सीट उनके लिए छोड़ी थी।

कांग्रेस और बीजेपी-जेडीएस गठबंधन के बीच था मुकाबला

हासन सीट से 15 प्रत्याशी मैदान में उतरे थे हालांकि यहां पर मुख्य मुकाबला भाजपा जीडीएस गठबंधन और कांग्रेस पार्टी के बीच में था। जीडीएस ने इस सीट पर पूर्व पीएम एचडी देवेगौड़ा के पोते प्रज्वल रेवन्ना को उम्मीदवार बनाया जबकि कांग्रेस ने एम श्रेयस पटेल को उम्मीदवार बनाया था यहां दोनों के बीच मुकाबला था।

प्रज्वल रेवन्ना हासन सीट से 2019 में चुनाव जीते थे। 2019 में उन्होंने यहां बीजेपी के ए मंजू को हराकर यह सीट जीती थी। रेवन्ना ने बीजेपी के मंजू को 1,41,224 वोटों के अंतर से हराया था। रेवन्ना को 76,606 वोट मिले थे जबकि मंजू को 535,382 वोट मिले थे।

कभी कांग्रेस पार्टी का गढ़ था हासन

हासन लोक सभा सीट कभी कांग्रेस पार्टी का गढ़ हुआ करता था। बाद में यहां देवगौड़ा परिवार का गढ़ बन गया। 1991 से 2019 तक इस सीट पर देवगौड़ा और उनके परिवार के लोग जीत दर्ज करते रहे (1999 लोकसभा चुनाव को छोड़कर) हैं. अकेले देवगौड़ा को इस लोकसभा सीट पर 5 बार जीत मिल चुकी है। वो 2 बार जनता दल जबकि 3 बार जेडीएस के टिकट से चुनाव जीतने में कामयाब हुए हैं। कांग्रेस हासन लोकसभा सीट से सात बार जीत दर्ज करने में कामयाब हुई है।

कैसे बदला पलपल चुनाव परिणाम ?

हासन लोकसभा सीट पर शुरुआत में कांग्रेस के एम श्रेयस पटेल को बढ़त मिली लेकिन एक समय ऐसा आया था जब प्रज्वल रेवन्ना आगे निकल गए थे लेकिन अंतिम चरण की काउंटिंग में फिर से प्रज्वल पीछे रह गए और उन्हें कांग्रेस के प्रत्याशी एम श्रेयस पटेल ने 44000 वोटो से हरा दिया।