उत्तरा न्यूज
अभी अभी उत्तराखंड पिथौरागढ़

पिथौरागढ़ महाविद्यालय: रितिक पांडेय छात्रसंघ अध्यक्ष, अनिल खाती सचिव चुने

खबरें अब पाए whatsapp पर
Join Now

पिथौरागढ़। एलएस महर राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, पिथौरागढ़ का छात्रसंघ शनिवार को चुन लिया गया। अध्यक्ष पद पर एबीवीपी प्रत्याशी रितिक पांडेय और सचिव पद पर अनिल खाती निर्वाचित हुए। छात्रसंघ के कुल 8 पदों में से तीन पदों पर निर्विरोध निर्वाचन हुआ, जबकि अन्य पदों पर चुनाव के लिए महाविद्यालय के 7 हजार तीन सौ 34 छात्र छात्राओं में से 3 हजार दो सौ 83 विद्यार्थियों ने मताधिकार का प्रयोग किया।

महाविद्यालय में शनिवार को अपराह्न करीब डेढ़ बजे तक वोटिंग हुई, जिसके बाद मतों की गिनती का काम शुरू हुआ। मतगणना के बाद निर्वाचित पदाधिकारियों के नामों की घोषणा की गई, जिसके बाद चुने गए उम्मीदवारों ने विजय जुलूस निकाला। अध्यक्ष पद पर एबीवीपी प्रत्याशी रितिक पांडेय ने अपने प्रतिद्वंदी एनएसयूआई प्रत्याशी दीपक सिंह को 340 वोटों के अंतर से पराजित किया। रितिक को 1,770 जबकि दीपक को 1,430 मत प्राप्त हुए। छात्र उपाध्यक्ष पद पर अंकित ज्याला निर्विरोध चुने गए जबकि छात्रा उपाध्यक्ष पद पर चित्रा जोशी ने प्रतिद्वंदी नेहा को 736 वोटों से शिकस्त दी। चित्रा को 1,853 जबकि नेहा को 11 सौ 17 वोट मिले।

सचिव पद पर अनिल खाती ने प्रतिद्वंदी मनोज जोशी को भारी अंतर से हराया। अनिल को 1,991 जबकि मनोज को करीब 900 वोट मिले। वहीं संयुक्त सचिव पद पर मयंक चंद तथा विश्वविद्यालय प्रतिनिधि के पद पर शिवम कापड़ी निर्विरोध चुने गए। छात्र संघ कोषाध्यक्ष पद पर दीपक खोलिया और सांस्कृतिक सचिव पद के लिए गौरव चंद्र पंत निर्वाचित हुए।
महाविद्यालय के प्राचार्य प्रोफेसर पुष्कर सिंह बिष्ट ने शांतिपूर्ण तरीके से छात्रसंघ के निर्वाचन के लिए छात्र-छात्राओं सहित विद्यालय परिवार का धन्यवाद जताया और निर्वाचित पदाधिकारियों को शुभकामनाएं दीं। निर्वाचन प्रभारी प्रो. पंकज भट्ट के नेतृत्व में निर्वाचन कमेटी के सदस्य डॉ एनएस धारियाल, डॉ सतीश जोशी, डॉ बीसी पाठक, डॉ दिनेश रावत, अमित जोशी और डॉ हेम चन्द्र पांडे आदि ने पारदर्शी तरीके से चुनाव संपन्न कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

Related posts

लाखों की धोखाधड़ी : 25 – 25 हजार के दो ईनामी गिरफ्तार

उत्तरा न्यूज टीम

एरोन फिंच का खराब फॉर्म चिंता का विषय : शेन वॉटसन

Newsdesk Uttranews

Almora: यूकेडी प्रवक्ता का आरोप, प्रचंड बहुमत के बावजूद सरकार गठन नहीं कर पाना बीजेपी की आंतरिक गुटबाजी का प्रत्यक्ष परिणाम

editor1