gewad ghati ki beti rakshita sah bani doctor

gewad ghati ki beti rakshita sah bani doctor

चौखुटिया। गेवाड़ घाटी (gewad ghati) की बेटी रक्षिता अब डॉक्टर बनने के बाद अपने गृह क्षेत्र में लोगों की सेवा करेंगी। रक्षिता ने चौखुटिया से अपनी शिक्षा की शुरुआत की। मेहऩती तथा मेधावी रक्षिता अपने ही गृह क्षेत्र चौखुटिया में चिकित्सक पद पर नियुक्त हुई है जिसका सपना वह अपने बचपन से देखती आ रही थी। सीएचसी चौखुटिया में उनकी पहली नियुक्ति के साथ ही उनका यह सपना पूरा हो गया।

गेवाड़ घाटी (gewad ghati) की बेटी रक्षिता की आरंभिक शिक्षा की बात करें तो उन्होंने अपने ही क्षेत्र के बोनाफाइड स्कूल से एक साल तक पढ़ाई की,आगे की पढ़ाई के लिए उन्होंने केंद्रीय विद्यालय रानीखेत में दाखिला लिया तथा इंटर तक की पढ़ाई वहीं से पूरी की। डॉक्टर बनने के सपने को साकार करने के लिए उन्होंने अपनी मेडिकल की पढ़ाई श्रीनगर गढ़वाल मेडिकल कॉलेज से की। पढ़ाई पूरी करते ही उन्हें अपनी पहली नियुक्ति चौखुटिया में ही मिल गई,जिसका सपना वह बचपन से देख रही थी।

रक्षिता के परिवार के लोग शिक्षा के क्षेत्र में अपना योगदान देते आ रहे हैं।उनके पिता ललित साह वर्तमान में केंद्रीय विद्यालय शिलांग में प्रधानाचार्य पद पर नियुक्त हैं,वही उनके चाचा प्रमोद साह जीआईसी पटलगांव में शिक्षक है। रक्षिता के दादा स्वर्गीय हीरालाल साह चौखुटिया (gewad ghati)में इतिहास के शिक्षक रह चुके हैं।

रक्षिता का सपना था कि वह चिकित्सक बनकर अपने पहाड़ के लोगों की सेवा कर सके और जब रक्षिता का चयन एमबीबीएस में हुआ तो मानों उसके सपनों को पंख लग गये।। एमबीबीएस में चयन होने पर रक्षिता का कहना था कि अगर चौखुटिया (gewad ghati) में उन्हे नियुक्ति मिलेगी तो वह सौभाग्यशाली होंगी और रक्षिता की यह मुराद भी पूरी हो गई अब चौखुटिया में मिली पहली नियुक्ति से अपने क्षेत्र के लोगों की सेवा करने की रक्षिता की इच्छा भी पूरी हो गई है।

कृपया हमारे youtube चैनल को सब्सक्राइब करें

https://www.youtube.com/channel/UCq1fYiAdV-MIt14t_l1gBIw