Former Tea Board vice-president raised questions- would have been welcome if he had brought Dehradun’s office in Garsain, raising questions on government’s intention to shift office from Almora

अल्मोड़ा,19 दिसंबर 2020-चाय विकास बोर्ड(Tea Board) के पूर्व उपाध्यक्ष पूरन रौतेला ने अल्मोड़ा में स्थित चाय विकास बोर्ड को गैरसैंण स्थानांतरित किए जाने के सरकार के निर्णय पर सवाल उठाए हैं|

उत्तराखंड का कोरोना (corona) अपडेट- आज मिले 584 नये संक्रमित, 9 की मौत

उन्होंने कहा कि गैरसैण में सरकारी कार्यालय ले जाना अच्छी बात है पर वहां देहरादून में स्थापित कार्यालयों को जरूरत के मुताबिक गैरसैंण स्थानांतरित किया जाना चाहिए|
उन्होंने कहा कि पहाड़ के कार्यालयों को जानबूझकर स्थानांतरित करना समझ से परे है, ऐसे में पहाड़ का पूरा विकास होने की बजाय रिक्तता ही आएगी|

Tea Board


यह पहाड़ के लिए शुभ संकेत नहीं हैं| उन्होंने कहा कि सरकार जानबूझकर सस्ती लोकप्रियता हासिल करने की चालें चल रही हैं इससे पूर्व अचानक अल्मोड़ा में निबंधक कार्यालय को देहरादून स्थानांतरित किया गया|

अब गैरसैण में अवस्थापना के नाम पर अल्मोड़ा में वर्षों से स्थापित चाय विकास बोर्ड (Tea Board)के कार्यालय को हटाया जा रहा है |

बेहतर होता सरकार देहरादून में बने विभागों को गैरसैंण लाती तो यह अच्छा कदम माना जाता|

उन्होंने कहा कि सरकार को इस संबंध में जवाब देना होगा कि पहाड़ के एक जिले से स्थापित विभाग को अचानक हटा देने में विकास का कौन सा गणित है|

उत्तरा न्यूज के यूट्यूब चैनल से जुड़े इस लिंक को क्लिक करें

https://youtube.com/channel/UCq1fYiAdV-MIt14t_l1gBIw