DGP Ashok Kumar, Almora police officer suspended for not writing a case

देहरादून, 08 दिसंबर 2020- डीजीपी (DGP)अशोक कुमार ने पुलिस द्वारा मुकदमा नहीं लिखने की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए पुसिस अधिकारी को निलंबित कर दिया है । यह कार्रवाई द्वाराहाट थाने में तैनात प्रभारी निरीक्षक के खिलाफ की गई है। आबकारी विभाग के अधिकारियों की रिपोर्ट ना लिखने की शिकायत पर यह कार्रवाई की गई है।


DGP अशोक कुमार के आदेश पर जिला स्तरीय अधिकीरियों ने इस पर अमल करते हुए अल्मोड़ा जिले के द्वाराहाट के प्रभारी निरीक्षक को निलंबित कर दिया है। एसएसपी अल्मोड़ा आयुष अग्रवाल ने इसकी पुष्टि की है इधर शिकायत पर पुलिस ने अब मुकदमा भी लिख दिया है।


जानकारी के अनुसार आबकारी विभाग की 450 पेटी शराब गायब हो गई। टिहरी से हल्द्वानी आ रही शराब तो नहीं पहुंची, मगर खाली ट्रक लावारिश हालत में द्वाराहाट में मिला।

Betalghat- नाबालिग से दुराचार के तीन आरोपित गिरफ्तार

आबकारी विभाग की ओर से द्वाराहाट थाने में तहरीर दी। आरोप है कि पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की।
इस मामले में आबकारी विभाग ने पुलिस महानिदेशक (DGP)अशोक कुमार के सामने सारा मामला रखा। संयुक्त आयुक्त आबकारी बीएस चौहान ने डीजीपी अशोक कुमार को बताया कि उनका ट्रक टिहरी से 450 पेटी विदेशी शराब लेकर हल्द्वानी हेतु निकला था, परंतु ट्रक हल्द्वानी नहीं पहुंचा। उक्त ट्रक दिनांक 5 दिसम्बर, 2020 को थाना द्वाराहाट अन्तर्गत कुमाऊं इन्जीनियरिंग कालेज गेट के पास लावारिस अवस्था में मिला। ट्रक में ड्राइवर और उपरोक्त 450 पेटी शराब मौजूद नहीं थी।

वीडियो कॉल कर युवती को करता था परेशान, पुलिस ने दबोचा

सम्बन्धित इकाई के प्रतिनिधि तथा ट्रांसपोर्टर 6 दिसम्बर 2020 को घटना के सम्बन्ध में रिपोर्ट दर्ज कराने हेतु थाना द्वाराहाट पहुंचे, परंतु प्रभारी निरीक्षक द्वाराहाट द्वारा उनकी तहरीर नहीं ली गयी।

पुलिस महानिदेशक, उत्तराखण्ड द्वारा इसका तुरंत संज्ञान लेते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, अल्मोड़ा को घटना का तत्काल खुलासा करने और घटना की तहरीर न लेने व रिपोर्ट दर्ज करने में हीलाहवाली करने के लिए प्रभारी निरीक्षक द्वाराहाट को तत्काल प्रभाव से निलम्बित करने हेतु निर्देशित किया गया। साथ ही पुलिस उपमहानिरीक्षक, एसटीएफ को भी इस सम्बन्ध में कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया। इसके बाद जिला स्तरीय अधिकारियों ने मामले में मुकदमा लिखने के साथ ही डीजीपी (DGP) के निर्देशों का पालन कर संबंधित अधिकारी को निलंबित कर दिया है।


डीजीपी अशोक कुमार ने पुलिस उपमहानिरीक्षक, एसटीएफ को भी केस वर्कआउट के लिए अलग से टीम लगाने हेतु निर्देशित किया है।

ताजा वीडियो अपडेट के लिए हमारे youtube चैनल के इस लिंक को सब्सक्राइब करें