उत्तरा न्यूज
अभी अभी उत्तर प्रदेश

दिल्ली में लगा वीकेंड कर्फ्यू, कर्मचारियों के लिए नए नियम लागू,गैर जरूरी कामों के लिये नही जा सकेंगे बाहर

Delhi imposes weekend curfew, new rules imposed for employees,

खबरें अब पाए whatsapp पर
Join Now

दिल्ली में बढ़ता कोरोना संक्रमण सरकार के लिये चिंता का​ विषय बना हुआ है। अब इसकी जद में दिल्ली की सरकार भी आ गयी है। दिल्ली के सीएम केजरीवाल खुद कोरोना संक्रमित हो गये है।


इधर कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली सरकार ने एक अहम फैसला लेते हुए वीकेंड कर्फ्यू लगा दिया है। यही नही निजी दफ्तरों में उपस्थिति को सीमित करते हुए अधिकतम 50 फीसदी कर्मचारियों को कार्यालय आने की अनुमति दी गयी है। वीकेंड कर्फ्यू के दौरान लोग गैर-जरूरी कामों के लिए घर से बाहर नही निकल सकेंगे।

ओमिक्रॉन वेरिएंट के केसो में दिल्ली में आई तेजी को देखते हुए दिल्ली-डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (DDMA) की बैठक में यह फैसला लिया गया। इस बैठक में लिए गये फैसलो जानकारी देते हुए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया
ने बताया कि अब शनिवार और रविवार को वीकेंड कर्फ्यू के दौरान केवल आवश्यक कार्यों के लिये ही बाहर जाने की अनुमति दी जायेगी। कहा कि गैर जरूरी कार्यो के लिये घर से बाहर नही निकल सकेंगे।


एक प्रेस कांफ्रैंस में सिसोदिया ने बताया कि आवश्यक सेवाओं के अतिरि​क्त अन्य सभी सरकारी दफ्तरों को ‘वर्क फ्रॉम होम’ नियम के लिये कह दिया गया है और निजी कार्यालयों में भी उपस्थिति को सीमित करते हुए अधिकतम 50 फीसदी लोग ही कार्यालय आ सकेंगे।

मेट्रो और बसो में कोई प्रतिबंध नही

दिल्ली सरकार ने बस और मेट्रो में मेट्रो और बसो जैसे सार्वजनिक परिवहन के साधनो को 100 प्रतिशत परिचालन क्षमता के साथ अनुमति दी है। इसके पीछे तर्क दिया गया है कि लोगों को हो रही परेशानी को देखते हुए दिल्ली सरकार ने यह फैसला लिया हैं। दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बताया कि कहा कि बस और मेट्रो सेवा का 100 प्रतिशत क्षमता के साथ परिचालन किया जायेगा। लेकिन सभी यात्रियों को मास्क पहनना जरूरी होगा।

Related posts

मेरे गुरु भरत ठाकुर के मार्गदर्शन के लिए आभारी हूं: अनुष्का शेट्टी

Newsdesk Uttranews

नाबालिग से गैंगरेप दुराचार की घटना पर डिप्टी स्पीकर ने जताई चिंता कहा जल्द दोषियों की हो गिरफ्तारी

Newsdesk Uttranews

उम्मीद— नया साल(New year) क्या पहाड़ में होगीं बुनियादी सुविधाएं बहाल ?

Newsdesk Uttranews