उत्तरा न्यूज
अभी अभी शिक्षा

CBSE new syllabus: CBSE ने सिलेबस में किए कई बदलाव, हटाए गए कई अध्याय, फैज की नज्म भी हुई बाहर

CBSE issued these important guidelines

खबरें अब पाए whatsapp पर
Join Now

Central board of secondary education (CBSE) ने कक्षा 11 और 12 के history और political science course से Non aligned movement, cold war के दौर, Afro-Asian regions में इस्लामी साम्राज्य के उदय, मुगल दरबारों के इतिहास (History of Mughal Courts) और industrial Revolution से संबंधित अध्याय हटा दिए हैं।

इसी तरह, कक्षा 10 के course में ‘food security’ से संबंधित अध्याय से ‘impact of globalization on agriculture’ विषय को हटा दिया गया है। साथ ही ‘religion, communalism और राजनीति-सांप्रदायिकता धर्मनिरपेक्ष राज्य’ खंड से फैज अहमद फैज की दो उर्दू कविताओं के अनुवादित अंश को भी इस साल बाहर कर दिया गया है।


CBSE ने पाठ्यक्रम सामग्री से ‘democracy और diversity’ संबंधी अध्याय भी हटा दिए हैं। विषयों या अध्यायों को हटाए जाने से संबंधित तर्क के बारे में पूछे जाने पर अधिकारियों ने कहा कि परिवर्तन course को युक्तिसंगत बनाए जाने का हिस्सा है और National Council of Educational Research and Training (NCERT) की सिफारिशों के अनुरूप है।


पिछले साल के course description के अनुसार, कक्षा 11 के history course से इस साल हटाया गया अध्याय ‘Central Islamic Lands’ Afro-Asian Region में इस्लामी साम्राज्य के उदय और अर्थव्यवस्था एवं समाज पर इसके प्रभाव के बारे में बात करता है।

इसी तरह, कक्षा 12 के इतिहास पाठ्यक्रम में ‘The Mughal Court: Reconstructing Histories Through Chronicles’ शीर्षक वाला अध्याय मुगलों के सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक इतिहास के पुनर्निर्माण के संबंध में मुगल दरबारों के इतिहास की पड़ताल करता है।


वर्ष 2022-23 academic session के लिए स्कूलों के साथ साझा किया गया पाठ्यक्रम पिछले साल की गई एक सत्र में दो भागों में परीक्षा देने की व्यवस्था से single board exam में वापस जाने के बोर्ड के फैसले का संकेत भी देता है। हालांकि दो भागों में परीक्षा कराने की व्यवस्था को covid महामारी को देखते हुए एक बार के विशेष उपाय के रूप में घोषित किया गया था। बोर्ड के अधिकारियों ने पिछले सप्ताह कहा था कि स्थिति को ध्यान में रखते हुए समय पर अंतिम संज्ञान लिया जाएगा।


वहीं, board के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘CBSE class 9 से 12 के लिए सालाना पाठ्यक्रम प्रदान करता है, जिसमें शैक्षणिक सामग्री, सीखने के परिणामों के साथ परीक्षाओं के लिए course, शैक्षणिक अभ्यास और मूल्यांकन दिशानिर्देश शामिल होते हैं।

हितधारकों और अन्य मौजूदा स्थितियों पर विचार को ध्यान में रखते हुए बोर्ड academic session 2022-23 के अंत में मूल्यांकन की वार्षिक योजना आयोजित करने के पक्ष में है और course को उसी हिसाब से तैयार किया गया है’’ हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब board ने कुछ ऐसे अध्यायों को हटाया है जो दशकों से course का हिस्सा रहे हैं।


CBSE ने 2020 में घोषणा की थी कि कक्षा 11 की political science की Textbook में federalism, citizenship, nationalism और secularism के अध्यायों पर छात्रों का मूल्यांकन करते समय विचार नहीं किया जाएगा, जिससे एक बड़ा विवाद पैदा हो गया था। हालांकि ये विषय 2021-22 academic session में बहाल किए गए और course का हिस्सा बने रहे।

Related posts

मशहूर शायर राहत इंदौरी की कोरोना (corona) रिपोर्ट पॉजिटिव, अस्पताल में हुए भर्ती

Newsdesk Uttranews

8 दिन में KGF chapter 2 ने कमा डाले इतने करोड़, सभी फिल्मों को छोड़ा पीछे, रोज बना रही है रिकॉर्ड

Newsdesk Uttranews

क्यों चर्चाओं में है पिथौरागढ़ में शिक्षक पुस्तक आंदोलन और क्या चाहते है पिथौरागढ़ के युवा

Newsdesk Uttranews