News-web

अयोध्या में हारी बीजेपी तो ट्रोल हो गए सोनू निगम, आखिर क्या है इस पोस्ट के पीछे की सच्चाई? आखिर क्यों मच रहा है इतना बवाल?

Published on:

अयोध्या में बीजेपी के हारने के बाद सोनू निगम ने एक ट्वीट किया जिसके बाद उनका यह ट्वीट काफी वायरल हो रहा है। अयोध्या में बीजेपी के हार के बाद सोनू निगम अब हर जगह छाए हुए हैं और लोग उन्हें खरी खोटी भी सुना रहे हैं लेकिन यहां लोग गलतफहमी का शिकार हो रहे हैं जानिए क्या है इसके पीछे का सच

लोकसभा चुनाव 2024 के नतीजे अब आ चुके हैं और भाजपा तीसरी बार केंद्र में अपनी सरकार बनाने जा रही हैं। हालांकि नतीजे थोड़े चौंकाने वाले जरूर हैं लेकिन फिर भी लोकसभा रिजल्ट बीजेपी के पक्ष में है लेकिन इस चुनाव में एक हैरान कर देने वाली बात है वह है अयोध्या की सीट। जहां भारतीय जनता पार्टी की हार हुई है। फैजाबाद से बीजेपी के उम्मीदवार लल्लू सिंह हार गए हैं यहां पर समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी अवधेश प्रसाद की 56000 वोटो से जीत हुई है।

अब अयोध्या में बीजेपी की हार के बीच एक ट्वीट तेजी से वायरल हो रहा है।

सोनू निगम नाम के एक यूजर ने ट्वीट किया जो सिंगर सोनू निगम का नहीं है बल्कि सोनू निगम तो ट्विटर पर है ही नहीं मगर नाम सोनू निगम होने की वजह से ब्लू टिक होने से लोगों के बीच गलतफहमी हुई और लोगों ने सिंगर सोनू निगम को जमकर ट्रोल कर दिया।

इस ट्वीट में लिखा है कि ‘जिस सरकार ने पूरे अयोध्या को चमका दिया, नया एयरपोर्ट दिया, रेलवे स्टेशन दिया, 500 सालों के बाद राम मंदिर बनवाकर दिया, पूरी की पूरी एक टेंपल इकोनॉमी बनाकर दी उस पार्टी को अयोध्या जी सीट पर संघर्ष करना पड़ रहा है। शर्मनाक है अयोध्यावासियों!’ वेरिफाइड अकाउंट से किए गए इस ट्वीट को देखने के बाद कई यूजर्स सिंगर सोनू निगम पर भड़कने लगे।

आपको बता दे कि जो लोग इस ट्वीट को सिंगर सोनू निगम का समझकर उन्हें खरी खोटी सुन रहे हैं।वह गलतफहमी का शिकार हुए हैं। दरअसल यह ट्विटर अकाउंट सोनू निगम सिंह का है। बॉलीवुड सिंगर सोनू निगम का नहीं। सोनू निगम सिंह वकील हैं और बिहार के रहने वाले हैं। यानी इस अकाउंट का सिंगर सोनू निगम से कोई लेना-देना नहीं है और ना ही यह ट्वीट उनका है।

आपको बता दे कि सोनू निगम सालों पहले ट्विटर से खुद को दूर कर चुके हैं एक विवाद के बाद सिंगर ने ट्विटर (अब X) से अपना अकाउंट डिलीट कर दिया था, जिसके बाद उन्होंने कभी इस प्लेटफॉर्म पर वापसी नहीं की।