News-web

जाखनदेवी में 6 जुलाई से होगा भागवत कथा का आयोजन, धार्मिक हवन,अनुष्ठान और भंडारे के साथ 13 जुलाई को होगा समापन

Published on:

Bhagwat Katha will be organized in Jakhandevi from 6th July, it will conclude on 13th July with religious havan, rituals and bhandara

अल्मोड़ा: अल्मोड़ा नगर के जाखनदेवी क्षेत्र में 6 जुलाई से एक सप्ताह तक चलने वाली भागवत कथा का आयोजन होने जा रहा है। इस धार्मिक अनुष्ठान का आयोजन दीपक जोशी द्वारा किया जा रहा है, जिसमें मुख्य यजमान के रूप में दीपक चंद्र जोशी और उनकी पत्नी विनीता जोशी होंगे। कथा का समापन 13 जुलाई को हवन और भंडारे के साथ होगा।

इस भागवत कथा का संचालन वृंदावन मथुरा के ठाकुर गोपाल जी महाराज विराजमान मंदिर के महंत शिवा शंकर दास (शिवाजी महाराज) द्वारा किया जाएगा। कथा के दौरान विभिन्न धार्मिक प्रसंग और उत्सव मनाए जाएंगे, जिसमें भगवान श्रीकृष्ण की लीलाओं और उपदेशों का विस्तार से वर्णन किया जाएगा।

आयोजन का विवरण
तिथि: 6 जुलाई 2024 से 13 जुलाई 2024
स्थान: जाखनदेवी, अल्मोड़ा
वक्ता: महंत शिवा शंकर दास (शिवाजी महाराज)
मुख्य यजमान: दीपक चंद्र जोशी और विनीता जोशी
सहायक यजमान: बिशन दत्त जोशी और उनकी पत्नी, नवीन चंद्र जोशी और उनकी पत्नी, खीमानंद जोशी और उनकी पत्नी


कार्यक्रम की रूपरेखा
6 जुलाई:
सुबह: मुख्य यजमान दीपक चंद्र जोशी ने बताया कि
जाखनदेवी मंदिर से भागवत कथा स्थल
6 जुलाई की सुबह जाखनदेवी मंदिर से एक विशेष कलश यात्रा निकाली जाएगी, जो भागवत कथा स्थल तक पहुंचेगी।
कथा महात्म्य और मंगलाचरण: कलश यात्रा के बाद कथा महात्म्य और मंगलाचरण होगा, जिसमें महंत शिवा शंकर दास भगवान की महिमा का वर्णन करेंगे और कथा का शुभारंभ करेंगे।
7 जुलाई:
श्री कपित देवहूति संवाद: भगवान कपित के उपदेशों का वर्णन।
8 जुलाई:
श्रीकृष्ण बाल लीला: भगवान श्रीकृष्ण के बाल्यकाल की लीलाओं का वर्णन।
9 जुलाई:


श्रीकृष्ण जन्मोत्सव: भगवान श्रीकृष्ण के जन्म की धूमधाम से कथा।
10 जुलाई:
श्री गोवर्धन लीला महोत्सव: गोवर्धन पर्वत की कथा और उत्सव।
11 जुलाई:
श्रीकृष्ण रुक्मिणी विवाह महोत्सव: भगवान श्रीकृष्ण और रुक्मिणी देवी के विवाह का आयोजन।
12 जुलाई:
श्री सुदामा चरित्र: भगवान श्रीकृष्ण और सुदामा की मित्रता की कथा।
श्री शुकदेव जी पूजन एवं विदाई: श्री शुकदेव जी की विदाई के साथ विशेष पूजन।
13 जुलाई:
हवन पूर्णाहुति: धार्मिक हवन और अनुष्ठान।
भंडारा: भव्य भंडारे के साथ कथा का समापन।


महंत शिवा शंकर दास का परिचय
महंत शिवा शंकर दास, जो शिवाजी महाराज के नाम से प्रसिद्ध हैं, वृंदावन मथुरा के ठाकुर गोपाल जी महाराज विराजमान मंदिर के प्रमुख महंत हैं। उनके प्रवचन और कथा वाचन की शैली अत्यंत सरल और रोचक होती है, जिससे श्रोता भगवान श्रीकृष्ण की दिव्य लीलाओं का सजीव अनुभव कर पाते हैं। उनकी भागवत कथा में श्रोता न केवल भगवान की लीलाओं का वर्णन सुनेंगे, बल्कि उनसे जुड़ी गूढ़ शिक्षाओं और संदेशों को भी जान सकेंगे।

मुख्य यजमान दीपक चंद्र जोशी ने सभी भक्तों से अपील की है कि वे इस पवित्र अवसर का अधिक से अधिक लाभ उठाएं और भागवत कथा में भाग लेकर भगवान के दिव्य उपदेशों का श्रवण करें। यह आयोजन धार्मिक श्रद्धा को बढ़ावा देने के साथ-साथ समाज में आध्यात्मिकता और नैतिकता का संदेश भी प्रसारित करेगा।