shishu-mandir

उत्तराखंड की चीनी मिल बंद होने पर किसानों के लिए संजीवनी बनी बहेड़ी की केसर चीनी मिल

editor1
1 Min Read
Screenshot-5

उत्तरा न्यूज

new-modern
gyan-vigyan

उधमसिंह नगर की महत्वपूर्ण सितारगंज की चीनी मिल बंद होने पर पडो़सी राज्य यूपी के बहेड़ी की केसर इंटर प्रॉईसेस चीनी मिल राज्य के गन्ना उत्पादक किसानों के लिए संजीवनी बनकर सामने आई है।

saraswati-bal-vidya-niketan

बहेड़ी की केसर चीनी मिल ने उत्तराखंड की बंद पडी चीनी मिल के भी गन्ने की पेराई पिछले साल की और इस साल भी कर रही है जो यहा के गन्ना किसानों के लिए एक अच्छा कदम है क्योंकि सितार गंज मिल बंद होने से किसानों को काफी दिक्कत उठानी पड़ती लेकिन केसर चीनी मिल के सहयोग से ये समस्या दूर हो पायी है।

IMG 20191218 WA0096

बहेड़ी के केसर इंटरप्राइजेज चीनी मिल के अध्यक्ष शरद मिश्रा ने बताया कि मिल ने सत्र 2018-19 में कुल 109.92 लाख रू की खरीद की। जिसका 35265.24 लाख रू भुगतान सभी कृषकों के बैंक खाते में कर दिया गया है। साथ ही सत्र 2019-20 का भी भुगतान किया जा रहा है। इसका श्रेय वह कृषकों के सहयोग को देते हैं।