bagwaliolkhar ka bagwai mela


bagwaliolkhar ka bagwai mela

बग्वालीपोखर। कोरोना महामारी के बीच इस बार बग्वालीपोखर का बग्वाई मेला (bagwaliolkhar ka bagwai mela) रस्म अदायगी के तौर पर मनाया गया। भैया दूज के दिन शुरू होने वाले इस मेले का बड़ा महत्व है। दूर दराज के क्षेत्रों में बसे लोगों के लिये यह मेला जहां वर्ष में एक दिन अपने परिचितों से ​मेल मिलाव का एक साधन होता था। लंबे समय से क्षेत्र में आयोजित होने वाले इस मेले से इन दिनों बड़ी चहल पहल होती थी। लेकिन 2020 में कोविड महामारी के कारण इस वर्ष यह मेला रस्म अदायगी के तौर पर मनाया गया।


यहाँ आयोजित होने वाला तीन दिवसीय बग्वाई कौतिक (बग्वाली मेले) (bagwaliolkhar ka bagwai mela)
ओड़ा भेंटने की रस्म के साथ सादगी से शुरू हुआ। इस बार कोरोना के कारण मेले का भव्य रूप फीका नज़र आया। मेले में आयोजित होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों सहित समस्त गतिविधियां न होने से मेले का रंग फीका नज़र आया।

मेला समिति के पदाधिकारियों एवं पूर्व विधायक मदन सिंह बिष्ट द्वारा सर्वप्रथम शहीद स्मारक में शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई। उसके बाद मेले की सांकेतिक शुरुआत करने के बाद कैप्टन बहादुर सिंह भण्डारी थोकदार प्रतिनिधि एवं भवान सिंह भण्डारी मुखिया पधान के संयुक्त नेतृत्व में भंडर गाँव के ग्रामीणों द्वारा ओड़ा भेंटने की परम्परा का निर्वहन किया। इस बार बाहर के व्यापारियों एवं मनोरंजन के संसाधनों की रिक्तता के कारण मेला क्षेत्र की रौनक फीकी रही।

पुलिस प्रसाशन ने भी बग्वाई कौतिक (बग्वाली मेले) (bagwaliolkhar ka bagwai mela) क्षेत्र को भीड़ मुक्त रखने के अथक प्रयास किये थे। कोरोना के प्रभाव से यह पहली बार है जब मेले का केवल सांकेतिक आयोजन हो सका। ओड़ा भेंटने वाले दल की अगुवाई पूर्व विधायक मदन सिंह बिष्ट ने की।

कोरोना इफेक्ट – इस बार नहीं होगा ऐतिहासिक बग्वाई कौतिक(BAGWI KOUTIK)

मदन सिंह बिष्ट का कहना था कि इस बार कोरोना ने पूरे देश ही नहीं विश्व को अपनी चपेट में लिया है। इस कारण इससे मेला अभी अछूता नहीं रह है। उन्होंने कहा कि मेले से ज्यादा महत्वपूर्ण लोगों की जान बचाना है।

bagwaliolkhar ka bagwai mela

मेला क्षेत्र में बग्वाई कौतिक (बग्वाली मेले) (bagwaliolkhar ka bagwai mela) का सांकेतिक शुभारम्भ करने वालों में मेला समिति के अध्यक्ष हरीश भण्डारी, सचिव प्रमोद जोशी, सांस्कृतिक सचिव डॉ दीपक मेहता, कोषाध्यक्ष बिनोद अधिकारी, संयोजक डॉ सन्तोष बिष्ट, पोखरम के निदेशक त्रिभुवन बिष्ट, व्यापार मंडल अध्यक्ष अर्जुन बिष्ट, बलवीर भण्डारी, मोहन भण्डारी, किशन कैड़ा, प्रमोद पांडे, विमल बिष्ट, पप्पू भण्डारी, शिव दत्त पांडे, हरिशरण शर्मा, जीवन अधिकारी, कुंदन भण्डारी, रमेश नेगी, अजय नेगी, जगत भण्डारी आदि लोग उपस्थित रहे। सांस्कृतिक सचिव डॉ दीपक मेहता ने बताया कि इस बार मेला कोरोना के कारण लोगों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए केवल प्रतीकात्मक रहा।

अल्मोड़ा ब्रेकिंग- दीपावली से पहले भीषण सड़क हादसा(road accident), 2 मासूम समेत 3 लोगो की मौत, 9 घायल

​कृपया हमारे youtube चैनल को सब्सक्राइब करें