shishu-mandir

टूटने लगा आशाओं के सब्र का बांध, किया मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय कूच का ऐलान

Newsdesk Uttranews
2 Min Read
Screenshot-5

cbb72720322e84e5832a72f95681a7a0
 

new-modern
gyan-vigyan

हल्द्वानी। सरकार के टालमटोल रवैये के खिलाफ बीते 28 दिन से आंदोलनरत आशाएं 31अगस्त को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय खटीमा को कूच करेंगी। यह निर्णय रविवार को हड़ताल पर 28 दिन से बैठी आशा कार्यकत्रियों ने लिया हैं। उनका कहना है कि 2 अगस्त से चल रही आशा हड़ताल के अट्ठाइस दिन पूरे हो चुके हैं लेकिन राज्य सरकार और उसके मुखिया अभी भी अनिर्णय के शिकार हैं।

आशा हेल्थ वर्कर्स यूनियन ने कहा कि आशा आंदोलन और हड़ताल को चलते हुए एक महीना होने को है लेकिन आशाओं के मासिक वेतन पर सरकार ने अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया है। यूनियन द्वारा यह पहले ही घोषणा की गई थी कि यदि सरकार विधानसभा सत्र तक भी कोई निर्णय नहीं लेगी तो महीने के अंत में मुख्यमंत्री के कैम्प कार्यालय, खटीमा चलो का कार्यक्रम लिया जायेगा।

यूनियन ने कहा कि अब मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय खटीमा जाकर मुख्यमंत्री से आशाओं के मासिक वेतन पर जवाब माँगा जायेगा। सभी जिलों से सैकड़ों की संख्या में आशाएँ मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय कूच में शामिल होंगी।

यूनियन महामंत्री डॉ कैलाश पाण्डेय ने बताया कि सेवा के नाम पर पिछले पंद्रह साल से शोषण झेल रही आशा वर्कर्स ने अब अपने अधिकार और सम्मान के लिए कमर कस ली है। अब आशाएँ अपना हक लेकर ही आंदोलन खत्म करेंगी। इसलिए राज्य सरकार आशाओं के जज्बे को समझते हुए आशाओं के पक्ष में फैसला ले और मासिक वेतन व पेंशन की घोषणा करें।
धरना स्थल पर रिंकी जोशी, रीना बाला, पुष्पलता, सायमा सिद्दीकी, मुन्नी रौतेला, रेखा भट्ट, रेशमा, राजेश्वरी जोशी, सरिता साहू, माया शाह, पुष्पा आर्य, गंगा बिष्ट, कमला बिष्ट, दीपा आर्य, हेमा शर्मा, सरस्वती, मालती देवी, कमलेश आदि आशाएँ मौजूद रहीं।