अल्मोड़ा : विवेकानंद संस्थान में बच्चों ने देखा ड्रोन का प्रदर्शन

उत्तरा न्यूज डेस्क
2 Min Read

भाकृअनुप-विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, अल्मोड़ा निरन्तर कृषि सम्बन्धित शोध कार्यों में नित नयेआयामों को छू रहा है। अनुसंधान के क्षेत्रों को ऊंचाई देने के लिए नई प्रौद्योगिकियों को शामिल किया जा रहा हैताकि भविष्य में कृषि सम्बन्धित चुनौतियों का दृढ़ता से सामना किया जा सके। इस हेतु संस्थान विभिन्न विद्यालयोंके युवा मस्तिष्कों को कृषि सम्बंधित विभिन्न जानकारी प्राप्त करने के लिए आकर्षित कर रहा है।

संस्थान के प्रशिक्षणप्रकोष्ठ के तत्वावधान में श्री केशव नौटियाल द्वारा आज, कौसानी और रानीखेत के पीएम केन्द्रीय विद्यालयों केलगभग 108 छात्र-छात्राओं एवं आठ शिक्षकों के लिए एक भ्रमण कार्यक्रम का संचालन किया गया। जिसमेंविद्यार्थिओं को संस्थान की समस्त प्रयोगशालाओं, प्रयोगात्मक प्रक्षेत्र एवं विभिन्न व्यावसायिक प्रौद्योगिकियों औरसंग्रहालय का भ्रमण कराया गया जिसमें संस्थान के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित व्यावसायिक किस्मों, उपकरणों औरप्रौद्योगिकियों को प्रदर्शित किया गया है। इससे पूर्व भी पी एम श्री केंद्रीय विद्यालयों के तीन बैच में लगभग 167छात्र-छात्राओं ने भी संस्थान में आकर कृषि सम्बंधित विषय में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त की थी और छात्रों ने कीटविज्ञान, मृदा विज्ञान और कृषि विज्ञान प्रयोगशालायें देखी और फिर उन्हें प्रक्षेत्र में विभिन्न फसलें दिखाई गईं।

भ्रमण का प्रमुख आकर्षण कृषि के क्षेत्र में नए युग में ए.आई. के माध्यम से ड्रोन का प्रयोग करते हुए उर्वरकों का छिड़काव केसम्बन्ध में विस्तृत जानकारी रही। इसकी कार्यप्रणाली का प्रदर्शन संस्थान के वैज्ञानिकों-इंजीनियरों द्वारा कियागया। संस्थान के पांच वैज्ञानिकों और अधिकारियों को विशेष रूप से उर्वरक एवं अन्य रसायनों के छिड़काव हेतु कृषिड्रोन को संचालित करने के लिए प्रशिक्षित किया गया है। फसल वाले खेतों में ड्रोन का उपयोग करने के कई फायदे हैंजैसे कि उर्वरकों और कृषि रसायनों का समान छिड़काव, समय की बचत एवं कम जनशक्ति। केंद्रीय विद्यालय केशिक्षकों द्वारा संस्थान का आभार व्यक्त किया गया।