shishu-mandir

नीति आयोग के अनुसार चीन पर आयात निर्भरता कम करने की जरूरत है

उत्तरा न्यूज टीम
1 Min Read
Screenshot-5

दिल्ली। भारत देश के सबसे बड़े थिंक टैंक नीति आयोग ने चीन और भारत के मध्य व्यापार पर प्रतिक्रिया दी है।

new-modern
holy-ange-school

gyan-vigyan


नीति आयोग के अनुसार चीन पर आयात निर्भरता कम करने की जरूरत है। नीति आयोग के उपाध्यक्ष सुमन बेरी ने रविवार को कहा कि सक्रिय फार्मास्युटिकल सामग्री (एपीआई) नवीकरणीय ऊर्जा के लिए आपूर्ति श्रृंखला सहित अहम कच्चे माल की आपूर्ति के लिए अन्य स्रोतों में विविधता लाने की जरूरत है।

कहा कि भारत का ध्यान चीन के साथ कुल व्यापार घाटे पर नहीं होना चाहिए, बल्कि कुछ अहम चीजों के आयात पर निर्भरता घटाने पर होना चाहिए।

बताते चलें कि चीन एपीआई का दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक और निर्यातक है। कई भारतीय कंपनियां विभिन्न दवाओं के उत्पादन के लिए सामग्री के आयात पर निर्भर हैं। व्यापार घाटे पर कहा, इसे कम करने के लिए क्षेत्रवार रणनीति बनानी होगी। भारत का चीन के साथ व्यापार घाटा 2022 में पहली बार 100 अरब डॉलर को पार कर गया है।