Join WhatsApp Group

News-web

अयोध्या में राम मंदिर की सुरक्षा में तैनात जवान की गोलाबारी मे हुई मौत

Published on:

अयोध्या में राम मंदिर की सुरक्षा में तैनात जवान की तड़के संदिग्ध हालातो में गोली लगने से मौके पर ही मौत हो गई। गोली जवान के माथे पर लगी जवान कोटेश्वर मंदिर के सामने बन रहे वीआईपी गेट के पास तैनात था। राम मंदिर इस स्थान से 150 किलोमीटर ही दूर है।

उसके साथ तैनात सुरक्षा कर्मी उसे चिकित्सालय ले गए। इसके बाद उसे ट्रामा सेंटर भी ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। जवान को गोली लगने की खबर के बाद मौके पर आईजी एवं एसएसपी भी पहुंच गए थे।

बताया जा रहा है कि जवान का नाम शत्रुघ्न विश्वकर्मा था जिसकी उम्र 25 साल थी। वह 2019 में पीएसी से एसएसएफ में सम्मिलित हुआ था। अंबेडकर के थाना  सम्मनपुर के कजपुरा गांव में रहने वाले शत्रुघ्न की अभी शादी नहीं हुई थी। उसके चार भाई और हैं। जबकि पिता की मौत हो चुकी है। अयोध्या राम मंदिर की सुरक्षा के लिए एसएसएफ को लगाया गया था। उधर पुलिस और फोरेंसिक टीम घटनास्थल पर पहुंचकर जांच कर रही है।

जवान के माथे के बीच में गोली कैसे लगी इसकी हकीकत क्या है।ड्यूटी पर तैनात साथी सुरक्षा कर्मी से भी पूछताछ की जा रही है। वही शत्रुघ्न को लेकर चिकित्सालय गया था।

राम मंदिर की सुरक्षा में तैनात ये तीसरे जवान को गली लगी है। इससे पहले इसी वर्ष 26 मार्च को राम मंदिर परिसर में तैनात कमांडो राम प्रताप को दुर्घटनावश गोली लगी थी। वो अपनी एके 47 को साफ कर रहे थे, तभी गोली चल गई थी। उन्हें लखनऊ ट्रॉमा सेंटर उपचार के लिए लाया गया था। जहां उपचार के पश्चात् वो ठीक हो गए थे।

इसके अतिरिक्त रेड जोन में पीएसी जवान कुलदीप कुमार की 25 अगस्त 2023 को गोली लग गई थी। अपनी सर्विस रिवाल्वर की गोली से उनकी भी मौत हुई थी।