चरस तस्करी (charas smuggling)का शातिराना अंदाज: धूप बत्ती की तरह पैक की थी चरस, पकड़ने के बाद पुलिस भी चौंक गई

editor1
3 Min Read

Vicious style of charas smuggling: Police was also shocked after catching charas that was packed like incense sticks

हल्द्वानी/ नैनीताल, 14 अप्रैल 2023- काठगोदाम पुलिस व एसओजी ने राजू साह नाम के व्यक्ति को लाखों की चरस (charas smuggling)की साथ गिरफ्तार किया है

charas smuggling
चरस तस्करी (charas smuggling)का शातिराना अंदाज: धूप बत्ती की तरह पैक की थी चरस पकड़ने के बाद पुलिस भी चौंक गई


आरोपी ने तस्करी (charas smuggling)को ले जाई जा रही चरस को धूप बत्ती की तरह पैक किया था, जिसे देख इस शातिराना अंदाज‌ पर पुलिस भी चौंक गई थी।


एसएसपी पंकज भट्ट के निर्देशों पर नशीले पदार्थों की तस्करी के सन्दर्भ में प्रभावी कार्यवाही करने को लेकर एसपी सिटी हरबन्स सिंह , सीओ भूपेन्द्र सिंह धोनी, थानाध्यक्ष काठगोदाम प्रमोद पाठक एवं उनकी एन्टी ड्रग्स टीम एवं नैनीताल एसओजी द्वारा के दिशा निर्देश पर टीम चैकिंग के दौरान 1 व्यक्ति को चरस की तस्करी करते हुये गिरफ्तार किया गया है ।

थानाध्यक्ष काठगोदाम प्रमोद पाठक ने बताया कि पुलिस टीम स्टेडियम गौलापार के पास चैकिंग कर रही थी, 1 व्यक्ति संदिग्ध जो कि पुलिस टीम को देखकर रूक गया तथा वापस मुङकर चलने लगा , शक होने पर उपनिरीक्षक फिरोज आलम द्वारा उक्त व्यक्ति को स्टेडियम के पास रोकर हाथ में पकड़े थैले के बारे में पूछने पर कि थैले में क्या है तो कहने लगा इसमें धूप बत्ती है।


शक होने पर थैले को खोलकर चैक करने पर कुल 132 रॉड जो प्रत्येक राड को अलग-अलग पन्नी से धुप बत्तीनुमा पैक किया गया था।

सख्ती से पूछताछ करने पर युवक टूट गया तथा बताया कि लालच में आकर मुनाफे के चक्कर में मैंने यह चरस सस्ते दामों में खरीद ली थी जिसे महंगे दामों में बेचने (charas smuggling)जा रहा था।


पुलिस टीम ने उक्त व्यक्ति राजू साह पुत्र स्व0 गंगदेव साह निवासी ग्राम पोखरिया राय पो0 व थाना चनपटिया जिला बेतिया बिहार।को गिरफ्तार कर एफआईआर न0 49/23 धारा 8/20 एनडीपीएस एक्ट का अभियोग पंजीकृत कर जेल भेज दिया गया है।
आरोपी के पास से एक नारंगी –लाल रंग के थैले के अन्दर 1 किलो 390 ग्राम चरस
रखी थी।

गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम में फिरोज आलम प्रभारी चौकी मल्ला थाना ( काठगोदाम), हेड कांस्टेबल त्रिलोक सिंह (एसओजी), कांस्टेबल अशोक रावत (एसओजी) और चन्दर सांमत शामिल थे।