News-web

UP: बिजली चोरी का यह तरीका सुनकर आपके भी पैरों तले खिसक जाएगी जमीन, पुलिस को लिखना पड़ा आधे गांव पर मुकदमा

Published on:

बिजली विभाग से जुड़े एक अधिकारी का कहना है कि गांव में 24 घर ऐसे हैं जहां बिजली चोरी की जा रही थी। हालांकि मीटर से कोई छेड़छाड़ नहीं की गई थी। देखने पर ऐसा लग रहा था कि बिजली सप्लाई बिल्कुल ठीक तरीके से घरों में हो रही है लेकिन कर्मचारियों का ध्यान गया तो देखा कि बिजली चोरी की जा रही है। उत्तर प्रदेश के कन्नौज में बिजली चोरी का एक अजीबोगरी मामला सामने आया है। यहां लाहौरी में साइकिल के वॉल्व की मदद से लगभग आधा गांव बिजली चोरी कर रहा था। विभाग के अधिकारियों ने अचानक गांव में छापेमारी की तो हड़कंप मच गया। गांव में 24 घर ऐसे मिले, जहां इस तरीके से बिजली चोरी की जा रही थी। अधिकारियों ने बिजली चोरी करने वाले घरों के मुखिया के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

भीषण गर्मी के चलते कन्नौज में बिजली की कटौती से लोग परेशान हैं। इसको लेकर दो दिन पहले यूपी के राज्य मंत्री असीम अरुण की अध्यक्षता में एक बैठक भी की गई। बैठक में बिजली विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ जनप्रतिनिधि भी मौजूद थे। तब बैठक में बिजली कटौती को लेकर काफी नाराजगी भी जताई गई। विभाग के अफसर और जनप्रतिनिधियों के बीच कहासुनी भी हुई थी. हालांकि, मंत्री की ओर से पर्याप्त बिजली आपूर्ति के आश्वासन के बाद जनप्रतिनिधि शांत हुए।

मीटिंग खत्म होने के बाद अगले ही दिन से बिजली की चोरी को रोकने को लेकर छिबरामऊ इलाके में अभियान चलाया गया। अचानक ही अफसरों ने घरों में छापेमारी की। इसी बीच, अधिकारी लाहौरी गांव पहुंचे तो उन्हें कई घर ऐसे मिले, जहां पर बिजली की चोरी की जा रही थी।

बिजली अधिकारी ने क्या बताया?

बिजली विभाग के अधिकारी रविंद्र का कहना है कि लाहोरी टोला में 24 घर ऐसे थे जहां बिजली चोरी हो रही थी लेकिन इन्हें पकड़ना इतना आसान भी नहीं था क्योंकि मीटर से कोई छेड़छाड़ नहीं की गई थी और घरों में सप्लाई भी ठीक थी लेकिन जब कर्मचारियों का ध्यान गया तो उन्होंने देखा कि बिजली मीटर के तार से पहले शातिराना तरीके से उन्हें काट दिया गया है और वहां एक साइकिल की वॉल बॉडी को फिट किया गया है। इसके बाद इस पर एक काला टेप लगाया गया था। जहां से कटिया फसाई गई थी। इसकी मदद से घर में पंखे, कूलर और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण चलाए जा रहे थे।

चूंकि बिजली मीटर से पहले ही कटिया फंसाया गया था, इस वजह से मीटर की रीडिंग कम आ रही थी। अधिकारियों ने लोगों सेअपील की है कि बिजली चोरी ना करें और समय पर अपने बिल का भुगतान करें।