6 वर्षीय बच्ची को निवाला बनाने वाला गुलदार आखिरकार पिंजरे में हुआ कैद

उत्तरा न्यूज डेस्क
2 Min Read

कालाढूंगी। कालाढूंगी के वार्ड नंबर एक में आतंक मचाने वाला गुलदार आखिरकार पिंजरे में कैद हो गया। बता दें कि बीते 2 नवंबर की रात्रि को एक गुलदार ने कालाढूंगी के वार्ड नंबर एक निवासी एक बच्ची को अपना निवाला बनाया था। गुलदार के पिंजरे में कैद होने के बाद वन विभाग ने फिलहाल राहत की सांस ली है।

ज्ञात हो कि दो नवंबर की रात्रि को कालाढूंगी के वार्ड नंबर एक निवासी राजेंद्र सिंह गैड़ा की 6 वर्षीय पुत्री गौरी को एक गुलदार द्वारा घर में घुसकर उठा ले जाने के बाद से कालाढूंगी रेंज के वन क्षेत्राधिकारी मुकेश जोशी सहित वन कर्मी लगातार गश्त पर थे, तथा घर के आसपास कई पिंजरे भी लगाए गए थे। जिनकी प्रतिदिन निगरानी की जा रही थी। घटना के 26 वें दिन मंगलवार की रात्रि को मेथिशाह नाले में लगे पिंजरे में गुलदार कैद हो गया। बुधवार की सुबह निगरानी करने वाली टीम ने पिंजरे में गुलदार को देखते वन क्षेत्राधिकारी सहित अपने अधिकारियों को इसकी सूचना दी। जिसके बाद मय गुलदार के पिंजरे को ढेला रामनगर रेस्क्यू सेंटर ले जाया गया। जहां रामनगर वन प्रभाग के प्रभागीय वनाधिकारी दिगांत नायक, उप प्रभागीय वनाधिकारी किरन शाह की मौजूदगी में चिकित्सकों की टीम ने गुलदार का चिकित्सकीय परीक्षण किया। वन क्षेत्राधिकारी मुकेश जोशी ने बताया कि मेथिशाह नाले के निकट ही घटना वाला घर है, और जो गुलदार पकड़ा गया है, नाले से सबसे अधिक यही गुलदार देखने को मिल रहा था। जांच पड़ताल में यही सामने आया है कि घटना को अंजाम देने वाला यही गुलदार है। अब इसको ढेला रेंज रेस्क्यू सेंटर में छोड़ दिया गया है। गुलदार के पकड़े जाने से क्षेत्रवासियों ने भी राहत की सांस ली है।