News-web

अंतिम संस्कार को बीच में ही रोक कर मां की अर्थी को अस्पताल ले गई बेटियां, जाने क्यों किया उन्होंने ऐसा

Published on:

हरियाणा के हीरानगर में रहने वाली करीब 85 वर्षीय बुजुर्ग रत्ना रानी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई मृतक की दो बेटियां हैं जिनका नाम लवली और नूतन है बेटियों का कहना है कि उनकी मां की मौत प्राकृतिक मौत नहीं है। उन्होंने अपने लोगों पर ही शक जाहिर किया है। उनका कहना है कि उनकी मां की गला घोटकर हत्या की गई है।लवली और नूतन ने कहा कि पड़ोसियों ने पूछताछ के दौरान बताया था कि पिछले दो-तीन दिन पहले उनकी मां की चिल्लाने की आवाज भी सुनाई दे रही थी और उन्हें काफी पीटा गया था।

हालांकि पुलिस ने धारा 174 के तहत कार्रवाई कर पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सौंप दिया।

बेटियों ने अर्थी से उठाकर पहुंचाया अस्पताल

बताया जा रहा है कि हीरानगर में रहने वाली रत्ना रानी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई जब इस बारे में उनकी बेटी लवली को पता चला तो वह सुबह 6:30 अंबाला शहर से हीरा नगर पहुंच गई। वहां पर देखा कि उसकी मां की अंतिम संस्कार की तैयारी चल रही थी।

शव को अर्थी पर लेटाकर उसपर फूलों की माला भी डाल दी गई थी। लवली के अनुसार उसकी मां के गले पर निशान थे। इसीलिए उन्होंने उसे अर्थी से उठाकर पुलिस के जरिए जिला नागरिक अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए पहुंचाया।

गला घोंटकर हत्या का लगाया आरोप

लवली का कहना है कि उसे शक है कि उसकी मां को किसी ने गला घोट कर मारा है। लवली ने कहा कि एक जैन कॉलेज रोड पर उनकी प्रॉपर्टी है जिसको लेकर लंबे समय से विवाद भी चल रहा है। इसी को लेकर उनकी मां की हत्या की गई है। लवली के साथ उनके पति और उसकी बहन नूतन भी उसका साथ दे रहे हैं।

लवली का कहना है कि करीब 4 साल से या विवाद चल रहा है। 2 साल पहले जब वह बहुत ज्यादा बीमार हुई थी तो उसे उसकी मां से मिलने भी नहीं दिया गया था। हालांकि अभी इस मामले में पुलिस ने कोई भी केस दर्ज नहीं किया है और पुलिस इस मौत को प्राकृतिक बता रही है।