Join WhatsApp

News-web

अपनी बहन की जान बचाने के लिए बाघ से शेरनी को तरह भिड़ गई तारा देवी, लकड़ी से किया हमला तब बची जान

रामनगर के समीप हाईवे पर बाघ ने एक महिला पर हमला कर दिया। तभी वहीं बगल में घास काट रही तारा देवी अपनी बहन को बचाने के लिए बाघ से भिड़ गई। उसने बाघ पर लकड़ी से वार किया तो बाघ उसकी ओर भी हमला करने चल दिया लेकिन इस दौरान लोगों के हल्ला-गुल्ला करने की वजह से बाघ कोसी नदी की ओर चला गया।

इसपर दोनों महिलाओं की जान बच गई।बाघ के हमले में घायल लीला देवी (40) की बहन तारा देवी ने बताया कि वह गांव की ही सरस्वती देवी के साथ हाईवे किनारे घास काटने के लिए गई थी। आमडंडा खत्ता व रिंगौड़ा खत्ता के बीच उनका मकान है, वन ग्राम होने के चलते बिजली व ईंधन की व्यवस्था नहीं है। जिसके चलते उन लोगों को ईंधन के लिए लकड़ी और पशुओं के लिए चारा काटने के आना पड़ता है।

शुक्रवार शाम करीब छह बजे हाईवे किनारे घास काट रहीं थी तभी घाट लगाए बाघ ने लीला देवी पर हमला बोल दिया। तारा देवी ने बताया कि जब बाघ ने लीला पर हमला किया तो जान खतरे में देख उसने पास में पड़ी लकड़ी से बाघ पर प्रहार कर दिया। लकड़ी मारते ही बाघ उसकी ओर बढ़ा लेकिन हाईवे पर भीड़ और शोर शराबा होने से बाघ नदी की ओर चला गया।