बच्चों पर अपराध रोकने के लिए महत्वपूर्ण है पंचायतों की भूमिका : सीडब्लूसी

उत्तरा न्यूज टीम
2 Min Read

पिथौरागढ़। बाल कल्याण समिति पिथौरागढ़ का कनालीछीना में ग्राम प्रधानों और जीजीआईसी में बालिकाओं के मध्य जागरूकता शिविर आयोजित किया गया। जिसमें वक्ताओं ने कहा कि ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में बालकों के प्रति होने वाले अपराधों पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए पंचायत प्रतिनिधियों की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है। ग्रामीण क्षेत्रों में बाल कल्याण संरक्षण इकाई का गठन करने के लिए वृहद स्तर पर अभियान संचालित किए जाने की आवश्यकता है। बाल विवाह, लैंगिक दुर्व्यवहार और बालकों के प्रति यौनाचार की घटनाओं को रोकने के लिए पंचायत स्तर पर जागरुकता अभियान संचालित होने चाहिए।


कनालीछीना विकासखंड सभागार में विगत दिवस आयोजित शिविर में सीडब्ल्यूसी की अध्यक्ष लक्ष्मी भट्ट ने कहा कि प्रत्येक ग्राम पंचायत में बाल संरक्षण इकाई का गठन किया जाना है परंतु अधिकांश ग्राम प्रधानों को इस संबंध में कोई जानकारी ही नहीं है। यही कारण है कि ग्रामीण क्षेत्रों में धड़ल्ले से बाल विवाह हो रहे हैं और बालकों के प्रति लैंगिक अपराध बढ़ रहे हैं।
शिविर में क्षेत्र प्रमुख सविता कन्याल, ग्राम प्रधान संगठन के अध्यक्ष रविन्द्र कुमार समेत करीब तीन दर्जन प्रधान मौजूद रहे।


समिति ने इस दौरान राजकीय बालिका इंटर कालेज में भी जागरुकता शिविर का आयोजन किया। शिविर में समिति अध्यक्ष लक्ष्मी भट्ट, सदस्य जगदीश कलौनी, रेखा रानी, खंड शिक्षा अधिकारी हेमचंद्र जोशी, प्रधानाचार्या मोनिका बिष्ट, हर्षिता पुनेठा, अंकिता, भागीरथी पोखरिया आदि ने चाइल्ड हैल्प लाइन 1098, पोक्सो अधिनियम, बाल विवाह, पुलिस हैल्प लाइन, साइबर क्राइम पर जानकारी दी।

Sticky AdSense Example

Sticky AdSense Example

Content goes here. Scroll down to see the sticky ad in action.

More content...