News-web

रानीखेत:: प्रचंड गर्मी में नलकूप हुए खराब, पानी की तलाश में नौलों की शरण में लोग

By editor1

Published on:

Ranikhet: Tube wells get damaged due to extreme heat, people take shelter in wells in search of water

पर्यटन नगरी रानीखेत सहित क्षेत्र में पेयजल संकट गहराया रानीखेत में दो ट्यूबवेल हुए खराब, ग्रामीण क्षेत्रों में टैंकरो से बंट रह है पानी

रानीखेत, 29 मई 2024- सूर्य की बढ़ती तपिश से जहां भीषण गर्मी पडने लगी है वहीं बारिश न होने से पर्यटन नगरी रानीखेत सहित उससे लगे क्षेत्रों के जल स्रोतों में पानी की कमी व उनके सूखने से योजनाओं से जलापूर्ति सुचारू रूप से नहीं हो पा रही है।
वहीं छावनी परिषद क्षेत्र में दो नलकूप खराब पड़े होने से पेयजल समस्या और विकट हो गई है। जिस कारण पानी की कमी को लेकर सभी जगह हाहाकार मच रहा है और वह एक बड़ी समस्या बनी हुई है। पानी की तलाश मे लोग दिन रात इधर-उधर भटकने को मजबूर हैं।
नगर का शिव मंदिर स्थित धारा व नीलकंठ महादेव के पास का धारा लोगों के लिए वरदान साबित हो रहा हैं।
हालांकि छावनी परिषद का प्रयास है कि हर किसी को जल आपूर्ति हो। इसे लेकर उसके द्वारा घरों के नलों में एक दिन छोड़कर पानी दिया जा रहा है तथा खराब पड़े दोनों नलकूपों को शीघ्र ठीक करने की कारवाई जारी है। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में भी भारी पेयजल संकट बना हुआ है और जल संस्थान द्वारा टैंकरो के माध्यम से पानी बांटा जा रहा है।
रानीखेत सहित उससे लगे क्षेत्रों में भीषण गर्मी पडने व बारिश न होने से जहां पानी की समस्या इन दिनों चरम सीमा पर है। वहीं पयर्टक सीजन शुरु होने व मैदानी ईलाकों में बढ रही गर्मी होने से लोगो का रुख पवर्तीय क्षेत्रों की और होने के कारण पेयजल समस्या और गहराने लगी है। वहीं ताड़ीखेत, सौनी पिलखोली सहित अन्य ग्रामीण स्थानों में भी पानी की कमी बनी हुई हैं और हेंड पम्प लोगों का सहारा बने हुए हैं। वहीं नौले व धारों में देर रात्रि तक भीड लग रही है।
ताड़ीखेत निवासी महिपाल सिंह रावत ने बताया कि क्षेत्र में पानी की विकट समस्या पैदा हो चुकी है वही बाजार के मध्य स्रोत के पानी को एकत्रित करने हेतु बनी टंकी मे भी पानी कम होने से लोगों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं पिलखोली निवासी उदय सिंह का कहना है कि हर घर नल योजना के तहत घरों के नलों में पानी चौथे दिवस आ रहा है और क्षेत्र में पानी का संकट होते जा रहा है। वही दूरस्थ क्षेत्रों में लोग नौलों आदि में देर रात तक पानी भरने को मजबूर है। साथ ही बताया कि जल संस्थान द्वारा टैंकरों की जल आपूर्ती को ग्राम प्रधान के माध्यम से बांटा जा रहा है।


छावनी परिषद ने लोगों से की अपील


छावनी परिषद के सीईओ कुनाल रोहिल्ला ने कहा कि वर्षा न होने के कारण देवीढूंगा जल स्रोत में जलस्तर गिरने से पंपिंग सुचारू नहीं पा रही है। जिस कारण पेयजल संकट बना हुआ है और परिषद का प्रयास है कि हर किसी को पानी की आपूर्ति हो। इसे देखते हुए एक दिन छोड़कर घरों के नलों में पानी दिया जा रहा है तथाखराब पड़े दो नलकूपों को जल संस्थान के सहयोग से शीघ्र ठीक करने की कारवाई जारी है। वहीं टैंकरों के माध्यम से जरूरत मंद स्थानो में जल आपूर्ती करने की तैयारी की जा रही है।
उन्होंने लोगों से परिषद को सहयोग करने व टुल्लू पम्प का प्रयोग न करने की अपील की तथा कहा कि पकड़े जाने पर में नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी। साथ ही कहा कि अच्छी बारीश होने के बाद ही पेयजल आपूर्ति सुचारू होने की संभावना है।

जल संस्थान ने टैंकरों से बांट रहा है पानी

जल संस्थान के ईई सुरेश ठाकुर ने कहा कि जल स्रोतों में पानी की कमी के कारण पेयजल समस्या उत्पन्न हो गई है। वहीं पानी की समस्या दूर करने के लिए विभाग द्वारा ग्रामीण क्षेत्र में दो विभागीय तथा दस प्राईवेट टैंकरो से जल आपूर्ति की जा रही है तथा पांच ब्लाकों में 632 हैंड पंप लगे हुए हैं। वहीं खराब पड़े सात पम्पो को ठीक करने हेतु टीम आ चुकी है। साथ ही बताया कि अच्छी वर्षा होने के बाद ही पानी की आपूर्ति नियमित हो सकेगी।