murder
murder

Minor daughter murder, Police arrested

बागेश्वर, 11 जुलाई 2020
बागेश्वर में एक कलयुगी पिता ने झूठी शान की खातिर अपनी ही नाबालिग बेटी की गला घोंट कर हत्या(murder)
कर दी. पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म कबूल लिया है. पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी है.

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक ग्राम मन्तोली हाल निवास जेठाई, थाना काण्डा निवासी प्रकाश चन्द्र काण्डपाल 38 पुत्र लक्ष्मी दत्त काण्डपाल ने अपनी नाबालिग बेटी की गला घोंट कर हत्या (murder) कर दी.

पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसकी बेटी अपने दादा-दादी के साथ रहती थी. 7 जुलाई को परिवार को उसके गर्भवती होने की जानकारी हुई. जिस पर आपसी कहा-सुनी होने के बाद वह घर को चले गया था. रात को उसने कमरे में जाकर उसने अपनी नाबालिग बेटी की गला घोंटकर हत्या(murder) कर दी और वहां से घर को लौट आया.

आरोपी पिता ने दूसरे दिन गांव के लोगों से लोकलाज के कारण बेटी द्वारा आत्महत्या करने की बात कही. ग्रामीणों ने उसकी बात में आकर शव को दफना दिया.

नाबालिग लड़की की हत्या(murder) किये जाने पर आरोपी प्रकाश चन्द्र काण्डपाल को पुलिस टीम द्वारा शनिवार यानि आज जेठाई बागेश्वर रोड के गंगनाथ मन्दिर के पास से गिरफ्तार कर लिया गया है. आरोपी को माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जाएगा.

पुलिस टीम में पुलिस उपाधीक्षक कपकोट संगीता, थानाध्यक्ष कांडा प्रहलाद सिंह, कांस्टेबल अशोक कुमार, अशोक कुमार, भुवन प्रसाद तथा फोरेंसिक टीम में कांस्टेबल अर्जुन सिंह, योगेश तिवाड़ी व पप्पू कुमार मौजूद थे.

मृतका की मां ने सौंपी थी पुलिस में तहरीर

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक बीते 9 जुलाई को मृतका की मां द्वारा थाना कांडा में तहरीर दी. तहरीर में अज्ञात अभियुक्तों द्वारा वादिनी की नाबालिग लड़की के साथ दुराचार कर आत्महत्या के लिये प्रेरित करने की बात कही गई. जिस कारण उसने 8 जुलाई को आत्महत्या कर ली थी.

वादिनी की तहरीर के आधार पर थाना कांडा में धारा- 376/306 व 5(L)/6 पोक्सो एक्ट में अभियोग पंजीकृत किया गया और मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी रचिता जुयाल ने सीओ कपकोट व थानाध्यक्ष कांडा को घटना के संबंध में आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए.

डीएम की अनुमति पर बाहर निकाला गया दफनाया शव

परिजनों ने नाबालिग की मौत के बाद उसके शव को दफना दिया था. जिलाधिकारी रंजना राजगुरु की ओर से शव निकालने के अनुमति मिलने तहसीलदार काण्डा मैनपाल सिंह, वन स्टाॅप सेन्टर के सदस्य व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र काण्डा के प्रभारी डाॅ. हरीश पोखरियाल की उपस्थिति में पुलिस टीम द्वारा शव को बाहर निकाला गया. जिसके बाद पंचायतानामा की कार्यवाही कर जिला अस्पताल में शव का पोस्टमार्टम कराया गया.
पुलिस अधीक्षक रचिता जुयाल के आदेश पर ​डिस्ट्रिक मोबाईल फाॅरेन्सिक यूनिट अल्मोड़ा द्वारा घटनास्थल का निरीक्षण कर घटना सम्बन्धी महत्वपूर्ण साक्ष्य जुटाएं.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हुआ खुलासा

पुलिस ने बताया कि नाबालिग का शव निकाल उसका जिला चिकित्सालय बागेश्वर में पोस्टमार्टम कराया गया. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उसकी मृत्यु गला घोंटने से होना प्रकाश में आया. जिसके बाद पुलिस द्वारा मृतका के परिजनों व आस-पड़ोस के लोगों से पूछताछ की गयी. इस दौरान नाबालिग लड़की के पिता द्वारा स्पष्ट जानकारी नहीं दिये जाने व उसकी बातों से सन्देह होने पर पुलिस ने उससे कड़ी पूछताछ की. जिसके बाद मृतका के पिता द्वारा कबूल किया गया कि लोकलाज के कारण उसने ही आवेश में आकर अपनी लड़की की गला घोंट कर हत्या(murder) की. ​पुलिस ने अभियोग में धारा- 302, 201 की बढ़ोत्तरी की है मामले की विवेचना प्रचलित है.

अपडेट खबरों के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे

https://www.youtube.com/channel/UCq1fYiAdV-MIt14t_l1gBIw