उत्तरा न्यूज
अभी अभी उत्तराखंड देहरादून

उत्तराखंड में MBBS छात्रों को पढ़ाई जा रही है गढ़वाली भाषा

Security departments

खबरें अब पाए whatsapp पर
Join Now

देहरादून। उत्तराखंड में MBBS छात्रों को पाठ्यक्रम के दौरान ही गढ़वाली भाषा भी पढ़ाई जा रही है। दरअसल राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) के दिशानिर्देश के अनुसार एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे छात्रों को स्थानीय भाषा का ज्ञान होना जरूरी है। स्थानीय भाषा में भी दक्ष होने से मरीजों की समस्या समझने व इलाज में सहायता मिलेगी।

जानकारी के अनुसार मेडिकल कालेज श्रीनगर में नए एमबीबीएस बैच के छात्रों को लोकल भाषा के ज्ञान से भी रूबरू कराया जा रहा है। मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. सीएमएस रावत ने कहा कि श्रीनगर मेडिकल कालेज में ग्रामीण अंचलों से मरीज पहुंचते हैं। गढ़वाल के मरीजों द्वारा लोकल भाषा में ही अपना मर्ज डाक्टरों को बताया जाता है। एमबीबीएस के छात्र-छात्राओं को लोकल भाषा की जानकारी हो इसके लिए फाउंडेशन कोर्स में गढ़वाली भाषा सिखाई जा रही है।

Related posts

गर्भवती महिला की मौत मामले में थम नहीं रहा गुस्सा, कांग्रेस ने की मामले की निष्पक्ष जांच की मांग

UTTRA NEWS DESK

Almora Breaking- अस्पताल में भर्ती युवक ने तोड़ा दम, विषाक्त पदार्थ का सेवन करने के बाद किया गया था भर्ती

Newsdesk Uttranews

आध्यात्मिक शांति के लिए उत्तराखंड की सुरम्य वीदियों में पहुंचे दक्षिण के थलाइवा ऱजनीकांत, योगदा आश्रम में लगाया ध्यान