News-web

3 दिन तक आंगन में सड़ती रही पिता की लाश, नहीं आया कोई भी बेटा फिर पड़ोसियों ने बुलाई पुलिस

Published on:

उत्तर प्रदेश के कन्नौज में 75 वर्षीय बुजुर्ग का शव उनके ही मकान के आंगन में तीन दिन से सड़ रहा था। इसके बाद जब बदबू आने लगी तो पड़ोसियों ने पुलिस को सूचना दी। मौके पर पुलिस दीवार फांदकर घर के अंदर दाखिल हुई तो देखा कि गर्मी के चलते पूरी तरह से लाश सड़ चुकी है। पुलिस ने बुजुर्ग का शव पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

बताया जा रहा है कि बुजुर्ग कई वर्षों से घर में अकेले रह रहा था। उसका एक बेटा अपनी मां के साथ बेंगलुरु में रहता है तो उसका दूसरा बेटा अमेरिका में रह रहा है जिसके चलते बुजुर्ग की मौत की खबर उन्हें नहीं लगी जब घर से बदबू आने लगे तो पड़ोसियों के माध्यम से इस घटना के बारे में जानकारी मिली। पुलिस ने घर वालों को इस बारे में सूचना दे दी है।

पूरा मामला कन्नौज सदर कोतवाली के मोहल्ला ग्वाल मैदान का है जहां 75 वर्ष अरुण कुमार मिश्रा करीब 6 वर्षों से अपने घर में अकेले रह रहे थे। उनका बड़ा बेटा प्रद्युमन अमेरिका में नौकरी करता है और वही रहता है जबकि उनका छोटा बेटा अक्षत बेंगलुरु में किसी निजी कंपनी में जॉब कर रहा है। अरुण की पत्नी रेखा देवी अपने छोटे बेटे अक्षत के साथ बेंगलुरु में ही रह रही हैं।

बीते बुधवार को अरुण मिश्रा की डेड बॉडी घर के आंगन में पड़ी हुई मिली। इस बात की जानकारी तब मिली जब पड़ोस में रहने वाले उनके भतीजे पवन मिश्रा को बदबू आने की शंका हुई। वह अरुण के घर का दरवाजा खटखटाने पहुंचा लेकिन कोई आवाज नहीं आई। इसपर उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस दीवार फांदकर अंदर घुसी तो देखा कि आंगन में बुजुर्ग अरुण मिश्रा की डेड बॉडी पड़ी है। पास में ही एक बाल्टी पानी रखा हुआ था।

पुलिस का कहना है कि बुजुर्ग घर में अकेले रहते थे और वह बाल्टी से कुछ काम कर रहे होंगे तभी जमीन पर गिर पड़े और उठ नहीं पाए क्योंकि घर में कोई और नहीं था इसलिए उनकी मदद के लिए भी कोई नहीं आया। इसके बाद बुजुर्ग ने दम तोड़ दिया। उनकी डेड बॉडी करीब 3 दिन पुरानी लग रही है।

फिलहाल, पुलिस ने फॉरेंसिक टीम से जांच करा कर डेड बॉडी का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। साथ ही बेंगलुरु में रह रहे उनके छोटे बेटे को इसकी सूचना दे दी है।