टनकपुर सहयोगी

अगस्त माह से पुराने लंबित संदर्भो पर स्वतः संज्ञान लेते हुए अभियान चलाकर उनका प्रभावी निस्तारण करना सुनिश्चित करें। यह निर्देश गुरूवार को जिला सभागार में सिविल/राजस्व वादों सहित नगर विकास, आपदा प्रबंधन, जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण के कार्यो की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी एसएन पाण्डे ने उप जिलाधिकारियों को दिये। जिलाधिकारी ने समीक्षा बैठक में राजस्व अधिकारियों को कोई भी जांच लंबित न रखने, आडिट आपत्तियों का तत्काल निस्तारण करने तथा राजस्व वादों में व्यक्तिगत रूचि लेते हुए पुराने वादों को मासान्त तक निस्तारित करने के निर्देश उप जिलाधिकारियों को दिये।
जिलाधिकारी ने 40 प्रतिशत से कम वसूली पर नाराजगी व्यक्त करते हुए आगामी मासान्त तक 60 प्रतिशत से अधिक वसूली करने के साथ बड़े बकायेदारों पर शिकंजा कसते हुए उनकी सूची नोटिस बोर्ड में लगाने के निर्देश दिये। उन्होंने नगर पालिका टनकपुर द्वारा 28 प्रतिशत, नगर पंचायत लोहाघाट द्वारा 21 प्रतिशत तथा अन्य निकायों द्वारा 30 प्रतिशत से कम वसूली पर नाराजगी व्यक्त करते हुए वसूली में तेजी लाने और 14 वें
वित्त की धनराशि उपभोग का उपयोगिता प्रमाण-पत्र शासन को भेजने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने सभी राजस्व उप निरीक्षकों को अपने-अपने क्षेत्र में खतौनियों का वाचन करने तथा उप जिलाधिकारियों को क्षेत्र में उनकी उपस्थिति सुनिश्चित करते हुए खतौतियों के वाचन की फोटो उपलब्ध कराने के निर्देश दिये, जिससे राजस्व उप निरीक्षकों की आवंटित गांवों में उपस्थिति सुनिश्चित हो सके।
उन्होंने सेवा का अधिकार, स्थायी, जाति, पर्वतीय, चरित्र, उत्तराधिकार आदि प्रमाण-पत्रों को समयान्तर्गत निर्गत करने और प्रमाण-पत्र समय से निर्गत न करने पर संबंधित अधिकारी के विरूद्ध उचित कार्यवाही करने की बात कही। उन्होंने सीएम डेसबोर्ड और सीएम हेल्प लाइन में प्राप्त शिकायतों को समयबद्ध तरीके से निस्तारित करने, शिकायतों को गंभीरता से लेने और किसी भी शिकायत को लंबित न रखने के निर्देश दिये। उन्होंने एआरटीओ को सरकारी, गैर सरकारी तथा निजी वाहनों में नाम, पदनाम का बोर्ड लगाने पर उन वाहनों का चालान करने तथा सरकारी वाहनों की चैकिंग सख्ती से करने के निर्देश दिये। उन्होंने नगर निकायों द्वारा निर्मित किये जाने वाले टंचिंग ग्राउण्ड के विरोधियों से वार्ता करने के निर्देश दिये।
जिलाधिकारी ने पुलिस व राजस्व विभाग द्वारा नामित ग्राम प्रहरियों की सूची आपदा प्रबंधन को उपलब्ध कराने और आपदा प्रबंधन अधिकारी को रोस्टर तैयार कर उन्हें प्रशिक्षण देने तथा आपदा न्यूनीकरण हेतु प्राप्त धनराशि को आवंटित करने हेतु अधिकारियों से प्रस्ताव प्राप्त करने के निर्देश दिये। राजस्व प्राप्तियों की समीक्षा में एआरटीओ ने बताया कि विगत माह में 83.97 लाख के सापेक्ष लगभग 84 लाख की राजस्व प्राप्तियां की गई हैं। उन्होंने बताया कि विगत माह में 65 डीएल सेस्पेंड और शराब पीकर वाहन चलाने पर 6 के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई है। जिलाधिकारी उप जिलाधिकारियों को अपने क्षेत्र में जनपद की स्कूल बसों में मानकों की जांच करने तथा गडबड़ी पाये जाने पर कड़ी कार्यवाही अमल में लाने के निर्देश दिये।
जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारियों को राष्ट्रीय व राज्जीय राजमार्ग के किनारे बिना नक्शा पास कर निर्मित किये जा रहे भवनों को सीज करने, चालान करने तथा इस हेतु कार्मिकों को सक्रिय करने के निर्देश दिये। उन्होंने जनपद में अवैध खनन पर सख्त अंकुश लगाने को कहा। उन्होंने उप जिलाधिकारियों को पुलिस क्षेत्राधिकारी के साथ भ्रमण कर पूर्व के संवेदनशील/अति संवेदनशील बूथों का निरीक्षण कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। बैठक में आडिट आपत्ति, फौजदारी वाद, शहरी विकास, परिवहन, राजस्व प्राप्ति, विविध देयक, सम्मन तामील आदि की भी समीक्षा की गई।
समीक्षा बैठक में अपर जिलाधिकारी टीएस मर्तोलिया, उप जिलाधिकारी चम्पावत अनिल गर्ब्याल, टनकपुर दयानन्द सरस्वती, पाटी शिप्रा जोशी, लोहाघाट आरसी गौतम, तहसीलदार टनकपुर खुशबू, लोहाघाट अबरार अहमद, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी जीडी पाण्डे, एआरटीओ रश्मि भट्ट, शासकीय अधिवक्ता रमेश उप्रेती व भाष्कर मुरारी सहित सभी पटल प्रभारी उपस्थित थे।