डीजीपी अशोक कुमार का तीन वर्ष का कार्यकाल हुआ पूरा , अनुभव साझा करते हुए भावुक हुए डीजीपी

उत्तरा न्यूज डेस्क
1 Min Read

डीजीपी अशोक कुमार का तीन वर्ष का कार्यकाल पूरा हो चुका है। गुरुवार को देहरादून पुलिस लाइन में उन्हे विदाई दी गई। इस दौरान वह अपने अनुभव साझा करते हुए भावुक हो गए। 30 नवंबर 2020 में वह डीजीपी बने थे इस दौरान उनके सामने कई चुनौतियां आई थी।

डीजीपी ने बताया कि इसके बाद तमाम तरह की आपदाएं आई। पुलिस जनता के लिए बनी है मैनें हमेशा पुलिस और जनता के बीच की दूरी कम की है। नए डीजीपी अभिनव कुमार ने कहा कि अशोक कुमार पुलिस फोर्स के लिए विश्वकर्मा रहें है।

उन्होंने आधारभूत ढांचे को मजबूत किया है। अशोक कुमार सेवानिवृत्ति से एक दिन पहले हरिद्वार पहुंचे थे। यहां पर डीजीपी को उत्कृष्ट कार्य करने के लिए कई सामाजिक संगठनों ने सम्मानित भी किया। इस दौरान जनता संवाद भी किया।

वही पुलिस अधिकारियों ने उन्हें सम्मानित करते हुए बधाई दी है। वही सेवानिवृत्ति पर सीआरपीएफ उत्तराखंड सेक्टर की ओर से डीजीपी अशोक कुमार का सम्मान किया। इस दौरान डीजीपी ने सीआरपीएफ में रहने के दौरान के अनुभव को जवानों के साथ साझा किया।

Joinsub_watsapp