उत्तरा न्यूज
अभी अभी अल्मोड़ा

Almora-वाह रे सिस्टम, बर्फबारी के 12 घंटे बाद पता लगा नुकसान के बारे में, फोन आने के बाद जागा प्रशासन, टीम ने लिया जायजा

अल्मोड़ा -: नगर व आसपास के इलाकों में बर्फबारी हुए 12 घंटे से अधिक का समय बीतने के बाद हवालबाग विकासखंड के ग्रामसभा रॆलाकोट के अनुसूचित जाति बस्ती में विगत दिवस सांयकाल वर्षा एंव बर्फवारी से व्यापक भूस्खलन एंव चट्टान खिसकने से छः भवनों में चट्टान एंव मलवा आने की सूचना प्रशासन को लग पाई


अल्मोड़ा जन अधिकार मंच को ग्रामवासियों एंव प्रभावित परिवारों द्वारा सूचना देने पर मंच के संयोजक त्रिलोचन जोशी द्वारा अल्मोड़ा उप जिलाधिकारी सदर विवेक राय जी एंव जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी राकेश जोशी को सूचना देकर प्रभावित परिवारों को उचित राहत सहायता देने की मांग की गयी।


सूचना के बाद क्षेत्र के माननीय विधायक एंव उपाध्यक्ष उत्तराखण्ड विधानसभा रघुनाथ सिंह चौहान को भी घटना की जानकारी से अवगत कराया। विधायक रघुनाथ सिंह चॊहान जी द्वारा तत्काल विभागीय अधिकारियों के साथ प्रभावित क्षेत्र का दौरा कर घटना का निरीक्षण किया। इस दॊरान जिला आपदा अधिकारी राकेश जोशी ने प्रभावित परिवारों के सामान को भूस्खलित क्षेत्र से बाहर निकाल कर प्रशंसनीय कार्य किया।

nitin communication


विधायक एंव एस डी एम सदर आदि ने घटना स्थल का गहन निरीक्षण कर तत्काल प्रभावित परिवारों को ग्रामसभा पंचायत घर एंव प्राइमरी स्कूल में भेजने काआदेश दिया । साथ ही साथ उपरोक्त घटना की जांच कर उच्चाधिकारियों को दी।
इस अवसर पर त्रिलोचन जोशी द्वारा एंव प्रभावित परिवारों द्वारा पुनर्वास की मांग की गयी। जिस पर विधायक ने आश्वासन दिया कि प्रशासन स्तर से क्षतिग्रस्त भवनों का शीघ्र निर्माण किया जायेगा । साथ ही साथ भू वॆज्ञानिक से क्षेत्र की घटना का परीक्षण किया जायेगा।


त्रिलोचन जोशी ने बताया कि इस दॊरान प्रभावित परिवार के रमेश राम पुत्र मोहन राम, कॆलाश राम पुत्र मोहन राम, श्रीमती सोनम पत्नी बंशीलाल ऒर माधोराम पुत्र गुसांई राम , पुष्कर राम पुत्र खीमराम, शंकर राम पुत्र धरम राम के भूस्खलन से भवन पूर्णरूप से क्षतिग्रस्त हो चुके हैं।


निरीक्षण में ग्राम प्रधान पति लालूराम, पटवारी त्यागी, कानूनगों नयाल , मोहन रावत, चन्दू रावत सहित अनेक ग्रामवासी मॊजूद थे।


इधर आपदा प्रबंधन अधिकारी राकेश जोशी ने बताया कि प्रभावित परिवारों
की ग्रामसभा पंचायत घर एंव प्राइमरी स्कूल में रहने की व्यवस्था की गई। भू वॆज्ञानिक को क्षेत्र का स्थलीय निरीक्षण करने के निर्देश दे दिए गए है। किसी भी प्रकार की पशु हानि, जान हानि एवं सामान का नुकसान नही हुआ है।

Related posts

627 किमी यात्रा कर सीएम से मिले मुनस्यारीवासी, सीमांत क्षेत्र की समस्याओं से सीएम को कराया अवगत

दिक्कत: अल्मोड़ा में एसएसए (SSA) शिक्षकों को नहीं मिला फरवरी माह का वेतन(salary), चाह कर भी नहीं कर पा रहे कोरोना बचाव हेतु आर्थिक मदद

UTTRA NEWS DESK

सराहनीय: पंजाबी महासभा ने कोरोना से लड़ने को लगाया सैनेटाइजर(Sanitizer) व पानी की टंकी(water tank)

Newsdesk Uttranews
error: Content is protected !!