shishu-mandir

Almora-नहीं रहे द्वितीय विश्वयुद्ध के योद्धा 101 वर्षीय पान सिंह बिष्ट

Newsdesk Uttranews
1 Min Read
Screenshot-5

बग्वालीपोखर। ग्राम रावलसेरा के एक सौ एक वर्षीय पूर्व सैनिक नायक सब पान सिंह बिष्ट ने रविवार शाम 7 अंतिम सांस ली। 20 नवंबर 1922 को बग्वालीपोखर के रावलसेरा में उनका जन्म हुआ था। आज सोमवार को उनका जन्मदिन भी था,लेकिन उससे एक दिन पहले वह इस दुनिया को अलविदा कहकर मिल गए।

new-modern
gyan-vigyan


पान सिंह बिष्ट ने द्वितीय विश्वयुद्ध, चीन और फिर पाकिस्तान के साथ तीन-तीन लड़ाइयाँ लड़ी। वर्ष 1965 को वह सेवानिवृत्त हो गये। वह थर्ड कुमाऊँ रेजिमेंट में कार्यरत थे। अपने पीछे वह बेटे, नाती-पोते, परपोते जैसे तीन पीढ़ियों का परिवार छोड़ गये है।

saraswati-bal-vidya-niketan


उनके पोते हिमालयन डेंटल सेंटर के संचालक डॉ. संतोष बिष्ट ने बताया कि उनके दादा पान सिंह बिष्ट ने रविवार की शाम अंतिम सांस ली। सोमवार सुबह बग्वालीपोखर के गार्गेश्वर घाट मे उनका अंतिम संस्कार किया जायेगा।