Public transport system should be started in Almora, demand for footpath and ZeBra crossing for passengers was also raised, memorandum given to DM

Public transport system

अल्मोड़ा— अमन समनेट और विभिन्न जनसंगठनों के पदाधिकारियों ने अल्मोड़ा में सुरक्षित यातायात के लिए सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था शुरू किए जाने की मांग की है। मंगलवार को इस मांग को लेकर डीएम को ज्ञापन दिया गया।


ज्ञापन में कहा गया कि विगत लंबे समय से अल्मोड़ा नगर में समनेट (सस्टेनेबल अर्बन मोबिलिटी नेटवर्क ) समेत विभिन्न संगठन निरंतर पैदल चलने वालों लोगों को होने वाली परेशानी को प्रशासन को अवगत कराते रहे हैं।

नगर में वरिष्ठ् नागरिकों, निशक्तजन, स्कूली बच्चों व सामान्य नागरिकों को सड़क पर पैदल चलने में पैदल पथ, जेबरा क्रासिंग नहीं होने एवं जगह-जगह अव्यवस्थित पार्किग आदि से परेशानियों का सामना करना पड़ता है जिसके कारण कई बार दुर्घटनायें भी होती रहती हैं। यहीं नहीं नगर में सार्वजनिक नगर यातायात की व्यवस्था नहीं होने के कारण वाहनों की संख्या दिनोंदिन बढ़ती जा रही है, जो कि नगर को और अधिक असुरक्षित बना रही हैं।

ज्ञापन में सड़क के किनारे पैदल पथ ना होने के कारण पैदल यात्रियों को होने वाली असुविधाओं को ध्यान में रख यहां पैदल पथ बनाए जाने की मांग उठाई साथ ही कहा कि नगर में क्रमशः व्यस्त चैराहे चैघानपाटा, जीजीआईसी और एडम्स हैं जो नगर की मुख्य सड़क पर स्थित हैं। इन स्थानों पर प्रतिदिन सैकड़ों लोग पैदल और वाहनों से आवाजाही करते हैं। इन स्थानों पर कई पैदल यात्री जिनमें स्कूली बच्चे,महिलाएं और बुजुर्ग भी शामिल हैं, सड़क पार करते हैं। लेकिन जेब्रा क्रासिंग नहीं होने से उनके साथ दुर्घटना का खतरा हर समय बना रहता है। नगर के इन चैराहों पर जेबरा क्रासिंग बनाये जाने की अत्यंत आवश्यकता है।
ज्ञापन में उक्त स्थिति को ध्यान में रखते हुए नगर की सड़कों को पैदल यात्रियों हेतु सुगम और सुरक्षित बनाने की दिशा में शीघ्र इन तीन स्थानों पर जेब्रा क्रासिंग व पैदल पथ बनवाने और सार्वजनिक यातायात व्यवस्था को शुरू करवाने में आवश्यक पहल करने की कृपा करेंगे।


ज्ञापन देने वालों में समनेट उत्तराखंड के रघु तिवारी, नीलिमा भट्ट, पालिका सभासद विजय पांडे, दयाकृण्ण कांडपाल, अखिलभारतीय जनवादी महिला समिति की राज्य अध्यक्ष सुनीता पांडे,एमसी कांडपाल, पीएस बोरा, महिला समिति की भावना जोषी, मंजू पंत, उपपा के गोपाल राम, रमेश दानू आदि मौजूद थे।