उत्तराखंड न्यूज
अभी अभी पिथौरागढ़

PIthoragarh- गंदे नालों और सीवेज को रामगंगा में जाने से रोकें : डीएम

खबरें अब पाए whatsapp पर
Join Now

पिथौरागढ़। जिलाधिकारी ने कहा कि रामगंगा की सफाई के लिए वृहद स्तर पर कार्य शुरू किया जाए। गंदे नालों व सीवेज को सीधे नदी में जाने से रोका जाए। उन्होंने सभी एसडीएम को निर्देशित किया कि नगर पालिका और नगर पंचायतों में उपलब्ध काम्पेक्टर मशीन, कूड़ा सेग्रेगेशन, डंपिंग यार्ड, मलमूत्र व ठोस अपशिष्ट प्रबंधन कार्यों की जांच की जाए।

जिलाधिकारी डा.आशीष चौहान ने शुक्रवार को क्लेक्ट्रेट सभागार में जिला गंगा संरक्षण समिति की बैठक में संरक्षण कार्यों को लेकर सभी संबंधित अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए। डीएम ने कहा कि 20 कमरों से अधिक आवास वाले होटलों को चिन्हित कर उनमें सीवेज डिस्पोजल सिस्टम की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। रामगंगा नदी किनारे बसासतों में जहां भी कूड़ा व गंदे नाले सीधे नदी में डाले जा रहे हैं, उन स्थानों को चिन्हित करें।

कहा कि धारचूला, मुन्स्यारी, जौलजीबी व थल में एसटीपी लगाने के लिए आगणन उपलब्ध करें। उन्होंने थल में काम्पेक्टर मशीन लगने को भूमि चिन्हित करने, जौलजीबी, पंचेश्वर व थल में रिवरफ्रंट डेवलपमेंट का प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजने और मुन्स्यारी, मुवानी, नाचनी, गणाई गंगोली, थल, कनालीछीना आदि स्थानों को खुले में शौचमुक्त करने के निर्देश दिए।

जिलाधिकारी ने प्राइवेट व सरकारी अस्पतालों से बायोमेडिकल वेस्ट निस्तारण की नियमित जांच करने, एंटी स्पिटिंग व पालिथिन के इस्तेमाल पर सख्ती से चालान काटने तथा आर्मी, आईटीबीपी व एसएसबी को अपने क्षेत्रों में 15 अगस्त तक सघन पौधरोपण अभियान चलाने के दिशा निर्देश दिए। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अनुराधा पाल, डीएफओ कोको रोसो, एसडीएम अनुराग आर्या, एसडीएम नंदन कुमार, नगर निकायों के अधिशासी अधिकार उपस्थित थे।

Related posts

कलयुग की जानकी सरकार से जारी पेंशन योजनाओं से महरूम

Newsdesk Uttranews

उत्तराखंड— सन्यास की नसीहत देने वालों पर पूर्व सीएम Harish Rawat (हरीश रावत) का निशाना, जानिए क्या कहा

Newsdesk Uttranews

हादसा : बद्रीनाथ जा रहे पांच तीर्थयात्रियों की दर्दनाक मौत, पांच घायल

Newsdesk Uttranews