उत्तरा न्यूज
उत्तराखंड

अल्मोड़ा के जिलाधिकारी नितिन भदौरिया को ​दी गई भावभीनी विदाई

खबरें अब पाए whatsapp पर
Join Now


अल्मोड़ा, 3 अगस्त 2021

 जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया का उत्तराखण्ड शासन में स्थानान्तरण होने पर कलेक्ट्रेट में विगत दिवस आयोजित एक समारोह में भावभीनी विदाई दी गई। 

विदाई के मौके पर कलेक्ट्रेट के अधिकारियों व कर्मचारियों के अलावा जनपद स्तरीय अधिकारियों ने जिलाधिकारी को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि सरकारी सेवा में स्थानान्तरण एक प्रक्रिया होती है जिससे सभी सरकारी सेवकों को गुजरना पड़ता है। कहा कि अल्मोड़ा में उन्हें बहुत कुछ सीखने को मिला है। कहा कि अल्मोड़ा जनपद सांस्कृतिक महत्व की दृष्टि से काफी अग्रणी है और उन्होंनें सांस्कृतिक गतिविधियों को आगे बढ़ाने का प्रयास किया और अपने सेवाहाल के दौरान समाज के निर्बल, असहाय व जरूरतमंद लोगो को यथा सम्भव सहायता देने का प्रयास भी किया।

 ​जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने कलेक्ट्रेट के सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा दिये गये सहयोग के प्रति आभार व्यक्त किया। इसके अलावा उन्होंने जिला स्तरीय अधिकारियों द्वारा टीम भावना से कार्य किये जाने पर जनपद को कई क्षेत्रों में अग्रणी लाने के लिए उन्हें बधाई दी और निरन्तर इसी तरह कार्य करने को क​हा। 

विदाई कार्यक्रम के दौरान मुख्य विकास अधिकारी नवनीत पाण्डे, अपर जिलाधिकारी बी.एल. फिरमाल, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. सविता हृयांकी, मुख्य शिक्षाधिकारी एच.बी चन्द, उपजिलाधिकारी सीमा विश्वकर्मा, मोनिका, आर.के. पाण्डे, राहुल शाह, गौरव पाण्डे, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी मनोहर लाल, आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी, मुख्य कृषि अधिकारी प्रियंका सिंह, उद्यान अधिकारी टी.एन. पाण्डे, पर्यटन अधिकारी राहुल चौबे, आबकारी अधिकारी मीनाक्षी टम्टा, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. रविन्द्र चन्द्रा, प्रशासनिक अधिकारी भीम सिंह मेर, वैयक्तिक अधिकारी हरीश उपाध्याय, कलैक्ट्रेट संघ के शशि मोहन पाण्डे, दीपक तिवारी के अलावा कलेक्ट्रेट के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।

Related posts

बिडंबनाः- नौलों का पानी पी नहीं सकते, नलों में आ नहीं रहा साफ पानी

सल्ट विधानसभा चुनावों को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री Harish Rawat हरीश रावत ने की मार्मिक अपील

Newsdesk Uttranews

ब्रेकिंग-वाहनों के वीआईपी नंबर के शौकीनों को अब जेब करनी होगी ढीली, सरकार ने एक लाख किया शुल्क,कैबीनेट बैठक में लिया गया निर्णय