ssj campus

Almora: Vice Chancellor inspected several departments of SSJ campus

अल्मोड़ा, 04 नवंबर 2020 सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एनएस भंडारी ने एसएसजे परिसर के जंतु विज्ञान विभाग, वन विज्ञान एवं जीआईएस विभाग का निरीक्षण कर विभागों की समीक्षा की।

कुलपति ने प्रत्येक विभागों को अकादमिक एवं परंपरागत विषयों के अतिरिक्त समय व रोजगार की मांग के दृष्टिगत एक या दो वोकेशनल कोर्स, व्यावसायिक कोर्स को प्रारम्भ करने हेतु जिससे छात्र रोजगारोन्मुखी शिक्षा ले सके प्रारम्भ करने हेतु प्रस्ताव तैयार कर विश्वविद्यालय को प्रेषित करने के निर्देश दिए। जिससे इन पाठ्यक्रमों का संचालन शीघ्र किया जा सकें।

जंतु विज्ञान विभाग के अंतर्गत डिप्लोमा व सर्टिफिकेट इन मोल्युकलर सेल, वन विज्ञान विभाग के अंतर्गत चार वर्षीय वानिकी स्नातक पाठ्यक्रम, प्लांटेशन टेक्नोलॉजी में डिप्लोमा व एमएससी तथा रिमोर्ट साइंस विभाग के अंतर्गत जिओ स्पेशल साइंस में डिप्लोमा व सर्टिफिकेट नए पाठ्यक्रम संचालित करने हेतु प्रस्ताव भेजने हेतु निर्देशित किया।

ssj campus 1

कुलपति प्रो. भंडारी ने विभागों का निरीक्षण कर समीक्षा करते हुए विभाग द्वारा हो रहे शोध कार्यों एवम उसका लाभ समाज के साथ छात्र समुदाय को मिलने, शोध उपकरणों, संग्रहालय, भविष्य में की जाने वाली शोध परियोजनाओं, विभागों के उन्नयन, फैकल्टी, नए रोजगारपरक पाठ्यक्रमों के संचालन के साथ ही पदों का सृजन, भवन के जीर्णोद्धार एवं शोध शाला हेतु डीपीआर बनवाने, विज्ञान एवं प्रौद्योगिक भारत सरकार(DST-FIST) द्वारा अनुदानित उपकरणों व शोध परियोजनाओं को सुचारू रूप से संचालित किए जाने हेतु विचार किया गया।

इसके साथ ही विभागों की समस्याओं पर गंभीर चर्चा करते हुए उनके समाधान करने की बात कुलपति प्रो. एन एस भंडारी ने कही। साथ ही क्लीन कैम्पस-ग्रीन कैंपस के तहत विभागों के सौंदर्यीकरण कर विभागों को उन्नयन करने की व्यापक कार्ययोजना कुलपति प्रो. एनएस भंडारी ने कही और समीक्षा करते हुए कहा कि परिसर के विभागों को एक मॉडल के रूप में रखा जाएगा, जिससे विवि​ एक आदर्श स्थापित करेगा।

इस अवसर पर कुलसचिव डॉ विपिन जोशी, जंतु विज्ञान विभाग की अध्यक्ष प्रो. इला बिष्ट, प्रो. जेएस रावत, प्रो. एके यादव, डॉ. मुकेश सामन्त, डॉ. संदीप, डॉ. आरसी मौर्य, क्लीन कैंपस-ग्रीन कैंपस के संयोजक डॉ. नवीन भट्ट, अरविंद पांडेय, रविन्द्र पाठक, विपिन जोशी, अरविंद कनवाल आदि प्राध्यापक मौजूद थे।