DDA

Almora: sarvadaliy sangharsh samiti gave a sit-in protest against DDA

अल्मोडा़, 17 नवंबर 2020
जिला विकास प्राधिकरण (DDA) को समाप्त करने की मांग को लेकर सर्वदलीय संघर्ष समिति ने आज चौघानपाटा गांधी पार्क में धरना दिया। सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी कर समिति ने अपना रोष व्यक्त किया।

वक्ताओं ने कहा कि नवम्बर 2017 में प्रदेश सरकार ने तुगलकी फरमान से पर्वतीय अंचल सहित पूरे प्रदेश में जनविरोधी जिला विकास प्राधिकरण (DDA) को लागू कर दिया जिसका पिछले 3 वर्षों से समिति लगातार विरोध कर रही है। प्राधिकरण लागू होने से जनता बेहद त्रस्त है तथा लगातार सरकार से इस जनविरोधी प्राधिकरण को समाप्त करने की मांग को लेकर लामबद्ध है।

राजीव कर्नाटक ने कहा कि पहाड़ी क्षेत्रों की भौगोलिक स्थिति को देखते हुए यहां प्राधिकरण लागू किया जाना औचित्यहीन है। प्राधिकरण लागू होने से जहां एक ओर लोगों को अपने भवन निर्माण के नक्शे स्वीकृत कराने में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है वही, दूसरी ओर प्राधिकरण के भारी भरकम शुल्क को भी झेलना पढ़ रहा है।

उन्होंने कहा कि प्राधिकरण (DDA) लागू होने से भवन निर्माण में भी काफी कमी आयी है जिससे भवन निर्माण सामग्री बेचने वाले व्यवसाईयों के व्यवसाय में भी विपरीत प्रभाव पड़ा है। इसके साथ ही भवन निर्माण करने वाले राजमिस्त्रियों तथा श्रमिकों की आजीविका में भी फर्क पड़ा है।

समिति के सदस्यों ने प्रदेश सरकार से जनहित में अविलम्ब इस जनविरोधी जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण (DDA) को समाप्त करने की मांग की। मांग पूरी नहीं होने पर चरणबद्ध तरीके से आन्दोलन करने की चेतावनी दी है।
धरने की अध्यक्षता प्रदेश कांंग्रेस कमेटी के सदस्य हर्ष कनवाल तथा संचालन कांंग्रेस जिला सचिव दीपांशु पाण्डेय ने किया।

इस दौरान उपपा के केंद्रीय अध्यक्ष व वरिष्ठ अधिवक्ता पीसी तिवारी, पूरन सिंह मेहरा, चन्द्रमणी भट्ट, पूरन सिंह मेहरा, पीएस बोरा, महेश चन्द्र आर्या, ललित मोहन पंत, प्रताप सत्याल, अख्तर हुसैन, राजू गिरी, सभासद हेम तिवारी, अम्बीराम आर्य समेत अन्य कई लोग मौजूद थे।