Forest fire

Almora forests are burning even in winter

अल्मोड़ा, 09 नवंबर 2020
जाड़ों के सीजन में भी इस बार अल्मोड़ा के जंगल धूं—धूं कर जल (Forest fire) रहे है। नगर के चारों ओर हर जगह आग ही आग दिखाई दे रही है। बढ़ती आग की घटनाओं के बीच वन विभाग भी पूरी तरह लापरवाह बना हुआ है।

नवंबर माह में भी जंगलों में आग लगने से लोग हतप्रभ तो है ही लेकिन विभाग की उदासीनता से भी लोगों में भयंकर आक्रोश है। नगर के आस पास के कई जंगल पिछले कुछ दिनों से धधक रहे है लेकिन विभाग हाथ में हाथ धरे बैठा है।

यहां होटल मैनजमेंट के पास के जंगल में लगी आग (Forest fire) सोमवार देर शाम होटल मैनजमेंट संस्थान के परिसर तक पहुंच गई। देखते ही देखते आग की लपटे हॉस्टल के एक कमरे तक पहुंच गई। इस दौरान कमरे के अंदर रखे बिस्तर भी जल गया।

fire 22

संस्थान के कर्मचारियों ने फायर बिग्रेड की इसकी सूचना दी। मौके पर पहुंचे फायर कर्मियों ने किसी तरह आग पर काबू पाया। परिसर के आस पास लगी आग को भी फायर कर्मियों ने बुझा दिया।

इसके अलावा यहां करबला से सटे देवली डांडा के जंगल में भी भीषण आग लगी है। आग लगने से जहां एक ओर पर्यावरण संपदा को नुकसान पहुंच रहा है वही, नगर में दमा व अन्य मरीजों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

वनाग्नि (Forest fire) से निपटने के लिए बैठकों में बड़े—बड़े दावे करने वाले विभागीय अफसर कुम्भकर्णी नींद में सोये है। वनाग्नि से निपटने के लिए विभाग की योजनाए व दावे सिर्फ फाइलों तक सीमित रह गए है।